कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

उत्तर प्रदेशः योगी सरकार की तानाशाही, सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों से मिलने गई प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में लिया

सोनभद्र ज़िले में भूमि विवाद को लेकर हुई हिंसा में 10 लोगों की हत्या हो गई थी, जबकि 24 से अधिक लोग घायल हो गए थे.

उत्तर प्रदेशः योगी सरकार की तानाशाही, सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों से मिलने गई प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में लिया

सोनभद्र ज़िले में भूमि विवाद को लेकर हुई हिंसा में 10 लोगों की हत्या हो गई थी, जबकि 24 से अधिक लोग घायल हो गए थे.

उत्तर प्रदेश: गोमांस के बहाने अराजक तत्वों ने मदरसे पर की पत्थरबाज़ी, आगजनी की कोशिश

गांव में माहौल शांत करने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है.

क्या सरकारी कर्मचारियों की संख्या कम करना शानदार उपलब्धि है?- रवीश कुमार

2014 में जब मनमोहन सिंह ने सरकार छोड़ी तब कर्मचारियों की संख्या 34.5 लाख थी. मोदी सरकार ने तीन सालों में कर्मचारियों की संख्या घटाकर 32.3 लाख कर दी.

असम: ब्रह्मपुत्र बोर्ड ने बाढ़ से बचाव के लिए जारी किए गए 40 लाख रुपए नितिन गडकरी और उनके परिवार की छुट्टियों पर उड़ाए

काज़ीरंगा नेशनल पार्क के रिजॉर्ट अधिकारियों के अनुसार ब्रह्मपुत्र बोर्ड ने लग्जरी कमरों समेत वीवीआईपी मेहमानों के भोजन का भी भुगतान किया था.

अन्य कहानियां

क्या सरकारी कर्मचारियों की संख्या कम करना शानदार उपलब्धि है?- रवीश कुमार

2014 में जब मनमोहन सिंह ने सरकार छोड़ी तब कर्मचारियों की संख्या 34.5 लाख थी. मोदी सरकार ने तीन सालों में कर्मचारियों की संख्या घटाकर 32.3 लाख कर दी.

असम: ब्रह्मपुत्र बोर्ड ने बाढ़ से बचाव के लिए जारी किए गए 40 लाख रुपए नितिन गडकरी और उनके परिवार की छुट्टियों पर उड़ाए

काज़ीरंगा नेशनल पार्क के रिजॉर्ट अधिकारियों के अनुसार ब्रह्मपुत्र बोर्ड ने लग्जरी कमरों समेत वीवीआईपी मेहमानों के भोजन का भी भुगतान किया था.

उत्तर प्रदेश: गोमांस के बहाने अराजक तत्वों ने मदरसे पर की पत्थरबाज़ी, आगजनी की कोशिश

गांव में माहौल शांत करने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है.

राय

किताब में पढ़ाई गई बात सच है तो यह चुनावी परिणाम गांधी, नेहरू और भगत को तमाचा है

"देश ने दिखा दिया कि मेरा देश कल्पना का देश था. मैं यहां रुआंसा बैठा हूँ, किसको बताऊं कि हमारे साथ धोखा हुआ है, हमसे झूठ बोला गया है."

राय

किताब में पढ़ाई गई बात सच है तो यह चुनावी परिणाम गांधी, नेहरू और भगत को तमाचा है

"देश ने दिखा दिया कि मेरा देश कल्पना का देश था. मैं यहां रुआंसा बैठा हूँ, किसको बताऊं कि हमारे साथ धोखा हुआ है, हमसे झूठ बोला गया है."

आदिवासी हित का किया प्रपंच और आदिवासियों से ही नहीं मिले अमित शाह

आदिवासी समाज ने कहा है कि बस्तर के आदिवासियों का पारंपरिक मुकुट पहन कर कोई आदिवासी हितैषी नहीं हो सकता।

अपना योगदान दें

न्यूज़सेंट्रल24×7 को योगदान दें और सत्ता में बैठे लोगों को जवाबदेह बनाने में हमारी मदद करें।

NC24x7 को अपना योगदान दें

अल्पसंख्यकों के संवैधानिक अधिकारों पर संकट, फैलेगी साम्प्रदायिकता की आग: मोदी सरकार 2.0 को लेकर कुछ सम्भावनाएँ और डर

यह सूची है उन कार्यों की जो मैं उम्मीद करता हूँ कि यह सरकार कभी ना करे. लेकिन साथ ही डरता भी हूँ कि ऐसा किया जाएगा.

ये मत पूछिए मोदी नहीं तो कौन, ये पूछिए मोदी फिर आएगा तो क्या होगा?- हर्ष मंदर

2019 में 2014 वाला विकास का पेड़ कट चुका है. उसके ‘अच्छे दिन’ के हरे पत्ते सूख कर झड़ चुके हैं. जो बचा है वो सिर्फ़ नफ़रत की शाखाएं हैं और जहर व अलगाववाद की जड़े हैं.

साध्वी प्रज्ञा की लोकसभा दावेदारी अपवाद नहीं- ये दौर सिर्फ़ बेशर्म राजनीति का दौर है

यह दावेदारी, संकल्प पत्र और ऐसे बयान यह इशारा करते हैं कि अगर इन्हें सत्ता पर दोबारा कब्ज़ा मिला तो पहले से ज़्यादा कट्टरपंथी राजनीति देखने को मिलेगी.

नए हिंदुस्तान का नया इंसाफ- गुरुग्राम की हिंसा आम हो चुकी हमारी बीमार सोच का हिस्सा है.

हर बार की तरह, यहां भी मज़लूम ही गुनहगार बन गया है. पुलिस ने पीड़ितों के खिलाफ़ भी केस दर्ज कर दिया है. वो अब हर तरह से टूट चुके हैं.

अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने का सरकारी हथियार है राजद्रोह कानून, अमेरिका जैसे देश से भी ख़त्म हो गई है इसकी उपयोगिता

भारतीय दंड संहिता में अन्य कई प्रावधान हैं. उनसे राज्य विद्रोही कार्यवाहियों के आरोपियों की मुश्कें कसी जा सकती है.

1947-2019: भारतीय वायुसेना ने कब-कब दुश्मनों के छक्के छुड़ाए, यहां पढ़ें

1971 में भारतीय सेना ने पाकिस्तान को दो टुकड़ों में बांट दिया और लगभग 90,000 पाकिस्तानी सैनिकों को युद्धबंदी बनाकर घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया.

कांचा इलैया आर्थिक-सामाजिक न्याय की ऐसी आवाज़ हैं जिसे दबाना नामुमकिन है!

इसमें कोई शक नहीं है कि हमारी यूनिवर्सिटियों में मौजूद सत्तापक्ष के लोग सत्ता की मदद से असरदार और अच्छे दलित विद्वानों को बाहर करने पर तुले हैं। उनकी लेखनी द्वारा उठाए गए प्रश्न सत्तापक्ष को असहज…

अल्पसंख्यकों के संवैधानिक अधिकारों पर संकट, फैलेगी साम्प्रदायिकता की आग: मोदी सरकार 2.0 को लेकर कुछ सम्भावनाएँ और डर

यह सूची है उन कार्यों की जो मैं उम्मीद करता हूँ कि यह सरकार कभी ना करे. लेकिन साथ ही डरता भी हूँ कि ऐसा किया जाएगा.

ये मत पूछिए मोदी नहीं तो कौन, ये पूछिए मोदी फिर आएगा तो क्या होगा?- हर्ष मंदर

2019 में 2014 वाला विकास का पेड़ कट चुका है. उसके ‘अच्छे दिन’ के हरे पत्ते सूख कर झड़ चुके हैं. जो बचा है वो सिर्फ़ नफ़रत की शाखाएं हैं और जहर व अलगाववाद की जड़े हैं.

नकली खबरों से लड़ें

हमारे ईमेल समाचार पत्र को पढ़ें

आप यह सुविधा कभी भी बंद कर सकते हैं।

साध्वी प्रज्ञा की लोकसभा दावेदारी अपवाद नहीं- ये दौर सिर्फ़ बेशर्म राजनीति का दौर है

यह दावेदारी, संकल्प पत्र और ऐसे बयान यह इशारा करते हैं कि अगर इन्हें सत्ता पर दोबारा कब्ज़ा मिला तो पहले से ज़्यादा कट्टरपंथी राजनीति देखने को मिलेगी.

नए हिंदुस्तान का नया इंसाफ- गुरुग्राम की हिंसा आम हो चुकी हमारी बीमार सोच का हिस्सा है.

हर बार की तरह, यहां भी मज़लूम ही गुनहगार बन गया है. पुलिस ने पीड़ितों के खिलाफ़ भी केस दर्ज कर दिया है. वो अब हर तरह से टूट चुके हैं.

अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने का सरकारी हथियार है राजद्रोह कानून, अमेरिका जैसे देश से भी ख़त्म हो गई है इसकी उपयोगिता

भारतीय दंड संहिता में अन्य कई प्रावधान हैं. उनसे राज्य विद्रोही कार्यवाहियों के आरोपियों की मुश्कें कसी जा सकती है.

1947-2019: भारतीय वायुसेना ने कब-कब दुश्मनों के छक्के छुड़ाए, यहां पढ़ें

1971 में भारतीय सेना ने पाकिस्तान को दो टुकड़ों में बांट दिया और लगभग 90,000 पाकिस्तानी सैनिकों को युद्धबंदी बनाकर घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया.

कांचा इलैया आर्थिक-सामाजिक न्याय की ऐसी आवाज़ हैं जिसे दबाना नामुमकिन है!

इसमें कोई शक नहीं है कि हमारी यूनिवर्सिटियों में मौजूद सत्तापक्ष के लोग सत्ता की मदद से असरदार और अच्छे दलित विद्वानों को बाहर करने पर तुले हैं। उनकी…

अपना योगदान दें

न्यूज़सेंट्रल24×7 को योगदान दें और सत्ता में बैठे लोगों को जवाबदेह बनाने में हमारी मदद करें। NC24x7 को अपना योगदान दें

अब डीयू की लड़कियों को कैद करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है!

बेश़क इनकी मांगों के आगे पितृसत्तात्मक समाज दहाड़ मार रहा हो। लेकिन, उस समय इनके इस गाने ने उस दहाड़ को खामोशी में तब्दील कर दिया था और सुबह तक ये…
You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+