कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

1984 के सिख नरसंहार का समर्थन करने वाली पत्रकार को कई भाजपा पदाधिकारियों का समर्थन

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

आपत्तिजनक पोस्ट के ख़िलाफ़ नियमों के उल्लंघन पर, ट्विटर द्वारा जागृति शुक्ला का हैंडल सस्पेंड करने के बाद उनके लिए दक्षिणपंथी समर्थन उमड़ पड़ा है. शुक्ला के लिए भाजपा पदाधिकारियों के इस समर्थन ने 1984 के सिख नरसंहार पर पार्टी के वास्तविक दृष्टिकोण के बारे में चिंताओं को उठाया है.

भाजपा ने दंगों के अपराधियों को अदालत तक पहुंचाने के लिए सार्वजनिक रूप से प्रतिबद्धता व्यक्त की थी. इसलिए, यह चौंकाने वाली बात है कि उसके कई पदाधिकारियों ने उस व्यक्ति के समर्थन में ट्वीट किया, जिसने कुख्यात रूप से दावा किया था कि सिख नरसंहार के लायक हैं.

शुक्ला, जिन्होंने पहले भी नफरत फ़ैलाने वाली सामग्री पोस्ट की थी, उनका ट्विटर हैंडल, कश्मीरी प्रदर्शनकारियों की गैरकानूनी हत्या की मांग करने के लिए, ट्विटर द्वारा निलंबित किया गया था. दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर बग्गा, भाजपा महिला मोर्चा की सोशल मीडिया प्रभारी प्रीति गांधी, दिल्ली उच्च न्यायालय के प्रशांत पटेल और भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय आईटी प्रमुख, सभी ने जागृति शुक्ला के समर्थन में ट्वीट किया और हैशटैग #ISupportJagratiShukla को प्रसारित करने में मदद की.

ऐसा लगता है कि शुक्ला को नरसंहार, वध और हत्याओं के प्रति आकर्षण है. सिख विरोधी दंगों को न्यायसंगत बताने के अलावा, उन्होंने कश्मीर में भी नरसंहार की मांग की थी.  2016 के एक ट्वीट में, उन्होंने कश्मीर घाटी में “सब कुछ” मारकर “आबादी और कीट नियंत्रण” की मांग की थी. बाद में उन्होंने जोड़ा कि कन्हैया कुमार की हत्या करके वे शुरुआत कर सकते हैं.

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा फॉलो किए जाने वाले कई ट्विटर यूजर्स ने उनके ट्विटर हैंडल के सस्पेंड होने पर विरोध व्यक्त करने के लिए हैशटैग #ISupportJagratiShukla के साथ ट्वीट किया.

कांग्रेस के एक पदाधिकारी द्वारा इस तरह के व्यक्ति को समर्थन देने की अभिव्यक्ति पर भाजपा में बड़े पैमाने पर विरोध के साथ दक्षिणपंथी टीवी चैनलों पर बहस करने और पार्टी अध्यक्ष से क्षमा मांगने के लिए कहा जाता है. तो क्या भाजपा अपने पदाधिकारियों द्वारा एक ऐसे व्यक्ति के सार्वजनिक समर्थन से सहमत है, जिन्होंने कश्मीर में नरसंहार की मांग की और 1984 के दंगों में सिखों के नरसंहार को न्यायसंगत बताया है?

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+