कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

अलीगढ़ मासूम बच्ची की हत्या: एसएचओ सहित पांच पुलिसकर्मी निलंबित

बच्ची के पिता की मांग है कि कथित हत्यारों के परिवार वालों को भी गिरफ्तार किया जाना चाहिए . 

अलीगढ़ में तीन वर्ष की मासूम बच्ची की नृशंस हत्या के मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में टप्पल थाना प्रभारी सहित पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है .
बच्ची 30 मई को गायब हुई थी लेकिन मामला 31 मई को दर्ज किया गया .
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने पीटीआई—भाषा को बताया कि पुलिस पंकज श्रीवास्तव द्वारा की गयी जांच के आधार पर गुरुवार को निलंबन की कार्रवाई की गयी .
उन्होंने बताया कि मामले की आगे जांच के लिए पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एवं एक महिला इंस्पेक्टर सहित छह सदस्यीय विशेष जांच टीम :एसआईटी: बनायी गयी है .
कुलहरि ने बच्ची के पिता बनवारी लाल शर्मा से मुलाकात कर उन्हें समझाया बुझाया कि वह आमरण अनशन न करें . शर्मा ने आमरण अनशन की धमकी दी थी .
बच्ची के पिता की मांग है कि कथित हत्यारों के परिवार वालों को भी गिरफ्तार किया जाना चाहिए .
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि उन्होंने पिता को आश्वासन दिया है कि फास्ट ट्रैक कोर्ट के जरिए तेजी से न्याय सुनिश्चित किया जाएगा .
पुलिस सूत्रों के मुताबिक दो गिरफ्तार आरोपियों जाहिद और असलम ने जुर्म कबूल कर लिया है . महज 12 हजार रुपये के लिए इस अपराध को अंजाम दिया गया. यह रकम बच्ची के पिता ने उधार ली थी और वह उसे वापस नहीं कर पा रहे थे .
बच्ची टप्पल कस्बे से 30 मई को गायब हो गयी थी . पुलिस को उसका क्षत-विक्षत शव दो जून को उसके घर के निकट ही कूडे़ के पास मिला .
पुलिस ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बलात्कार की बात नहीं है . रिपोर्ट में बताया गया है कि गला घोंटने के कारण मौत हुई .
कुलहरि ने कहा कि अपराध की गंभीरता को देखते हुए आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की प्रक्रिया चल रही है .
टप्पल जिला मुख्यालय से 50 किलोमीटर दूर है . कस्बे में एहतियातन सुरक्षा कडी कर दी गयी है . बुधवार को यहां तनाव व्याप्त हो गया था .

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+