कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असम: नहीं होगा दोबारा एनआरसी और फिर से जांच, सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार की मांग किया खारिज

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने एनआरसी डेटा मामले में गोपनीयता सुनिश्चत करने का भी निर्दश दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें एनआरसी को दोबारा कराने और फिर से जांच करने की मांग की गई थी. कोर्ट ने कहा कि कुछ कानूनी चुनौतियां खड़ी किए जाने की वजह से इसे दोहराने का आदेश नहीं दिया जा सकता है. सरकार को असम एनआरसी सूची से बाहर रखे गए लोगों के नाम को 31 अगस्त को ऑनलाइन प्रकाशित करना होगा.

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने एनआरसी डेटा मामले में गोपनीयता सुनिश्चत करने का भी निर्दश दिया है. पीठ ने अपने आदेश में कहा, “जिला कार्यालयों में उपलब्ध कराए जाने वाले इनक्लूजन (नाम जोड़े गए) और एक्सक्लूजन (नाम हटाए गए) की सूचियों की केवल हार्ड कॉपी उपलब्ध कराई जाएगी. धारा 66ए आदेश में निर्धारित कानून के अनुसार एनआरसी को अपडेट किया जाना चाहिए.’

इस आदेश को सरकार के लिए झटका माना जा रहा है. बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सूची जारी करने की तारीख़ 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त कर दी थी.

सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला उस याचिका के संदर्भ में आया है जिसमें एनआरसी कॉर्डिनेटर के तरफ से अपील किया गया था. उन्होंने मांग की थी कि नयी सूची व्यापक और सही हो इसके लिए जरूरी है कि इसमें सभी वैध व्यक्तियों के नाम जोड़े जाएं और अवैध व्यक्तियों के नाम हटाए जाए, इसके लिए और समय की जरूरत है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+