कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

दिनकर की भारतीयता: वंचित वर्गों की आर्थिक मुक्ति ही प्रथम राष्ट्रधर्म

दिनकर पर रवीन्द्र, इकबाल और गांधी के राष्ट्रवादी चिंतन का गहरा प्रभाव है लेकिन उसकी भावी दिशा नेहरू के इतिहासबोध से जुड़ी है। 
You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+