कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

प्रधानमंत्री मोदी अपना मन साफ़ करें, हमारे पैर नहीं- सामाजिक कार्यकर्ता बेजवाड़ा विल्सन

बेजवाड़ा विल्सन ने कहा कि " 1.6 लाख महिलाएं आज भी गंदगी साफ करने को मजबूर हैं. लेकिन, पिछले 5 सालों में इनके लिए कुछ नहीं किया. शर्म की बात है.”

सफाईकर्मियों के पैर धोने को लेकर सफाई कर्मचारी आंदोलन के संस्थापक बेजवाड़ा विल्सन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आलोचना की है. उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री अपना मन साफ करें ना कि हमारा पैर.

बेजवाड़ा विल्सन ने ट्विटर पर लगातार कई पोस्ट लिखे, जिसमें कहा, “पीएम मोदी आप अपने मन को साफ करें ना कि हमारे पैरों को. यह अपमान का उच्चतम रूप है. 1.6 लाख महिलाएं आज भी गंदगी साफ करने को मजबूर हैं. लेकिन, पिछले 5 सालों में इनके लिए कुछ नहीं किया. शर्म की बात है.”

भारत में मैनुअल स्कैवेंजिंग के कारण होने वाली मौतों के लिए भी विल्सन ने पीएम पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि अकेले 2018 में सीवर और सेप्टिक टैंक में 105 लोग मारे गए. तब आपने चुप्पी साधी थी. अब पैर धोना न्याय नहीं है.

विल्सन ने अपने अगले ट्वीट में नरेन्द्र मोदी के उस बयान का ज़िक्र किया जिसमें गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए अपनी पुस्तक में उन्होंने लिखा था, “ इस कार्य से श्रमिकों को अध्यात्मिक अनुभव प्राप्त होता है.” विल्सन ने कहा कि, “ अफ़सोस है! सीएम होते हुए उन्होंने अध्यात्मिक रूप से गंदगी को साफ किया और अब पीएम के रूप में पैर धोकर अन्याय को महिमामंडित किया है.” यह बाबा साहेब अंबेडकर के मिशन झाड़ू छोड़ो, कलम पकड़ो के ख़िलाफ़ है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+