कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

कांग्रेस नेताओं से मिले बॉलीवुड के सितारे, कहा- मोदी सरकार में देशद्रोही ठहराए जाने का लगा रहता है डर

शशि थरूर कांग्रेस की घोषणापत्र समिति के सदस्य हैं.

फिल्म निर्माताओं और अभिनेताओं के एक समूह ने रविवार को कांग्रेस नेता और सांसद शशि थरूर  के नेतृत्व वाले एक प्रतिनिधिमंडल को बताया कि उन्हें अपने रचनात्मक कार्यों के लिए मौजूदा सरकार द्वारा उनकी एक राष्ट्रदोही छवि बनाए जाने से डर लगता है.

भारतीय सिनेमा से जुड़े इस समूह में फिल्म निर्माता महेश भट्ट, उनकी पत्नी और अभिनेत्री सोनी राजदान, डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता आनंद पटवर्धन, निर्देशक कबीर खान, अभिनेता ज़ावेद जाफ़री और अभिनेत्री दीया मिर्ज़ा सहित हिंदी फिल्म उद्योग के 25 सदस्य शामिल थे.

द टेलीग्राफ़ के मुताबिक इस प्रतिनिधिमंडल ने अपने फिल्म या भाषण के लिए उन्हें राष्ट्र-विरोधी करार दिए जाने के डर की बात कही. साथ ही उन्होंने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंकुश को लेकर अपनी चिंता व्यक्त की. बैठक में मौजूद एक सूत्र ने कहा, “प्रतिनिधिमंडल को सूची सौंपी गई है. इस सूची में ऐसे ही कुछ समूहों का नाम है जिनके कारण फ़िल्मकारों को दबाव महसूस करना पड़ रहा है.

बता दें कि शशि थरूर कांग्रेस की घोषणापत्र समिति के सदस्य हैं. इसलिए इस बैठक को देश भर के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों तक पहुंचने और आगामी लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी के घोषणापत्र के लिए इनपुट मांगने की कांग्रेस की रणनीति का एक हिस्सा माना जा रहा है.

केंद्र में भाजपा के साढ़े चार साल के शासनकाल में, संघ परिवार के ख़िलाफ़ जाने वाले विचारों और अभिनेताओं को राष्ट्रविरोधी कहा जाता है. असहमति रखने वाले कलाकारों को जान से मारने की धमकी दी जा रहीं है और सिनेमाघरों में उनकी फिल्मों की स्क्रीनिंग को भी निशाना बनाया जाता है.

एक सूत्र ने कहा, “बैठक (कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के साथ) में भाग लेने के लिए प्रारंभिक अनिच्छा थी लेकिन तीनों (हृदय प्रदेश) राज्यों में आए चुनाव परिणाम जो आए हैं उन्होंने प्रभाव डाला है. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि उन्हे इस मीटिंग के लिए निमंत्रण एंथनी और दिल्ली के कांग्रेस नेता यास्मीन किदवई द्वारा भेजे गए थे. इस मीटिंग का आधिकारिक तौर पर कांग्रेस ने खुलासा नहीं किया  है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+