कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

बुलंदशहर हिंसाः घटना वाले दिन बच्चों को जल्दी घर भेजने मिले थे आदेश- स्कूल शिक्षक

स्कूल घटनास्थल से 100 मिटर की दूरी पर मौजूद है.

बुलंदशहर में बीते 3 दिसंबर को हुई हिंसा के मामले में एक  हुआ है. जिस दिन गोकशी के शक में हिंसा हुई थी वहां से 100 मीटर दूर स्थित एक स्कूल में समय से पहले बच्चों को मिड-डे मील दिया गया था और स्कूल के बच्चों को तुरंत घर भेजने का आदेश दिया गया था.

एनडीटीवी की ख़बर के मुताबिक स्कूल रसोइया और मिड-डे मील परोसने वाले राजपाल सिंह ने कहा, “उस दिन हमें भोजन जल्द बांटने और बच्चों को घर भेजने का आदेश मिला था.” स्कूल 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक चलता है. लेकिन उस दिन बच्चों को 11 बजकर 15 मिनट पर मिड डे मील दे दिया गया था. जबकि आमतौर पर स्कूल में दोपहर भोजन का 12.30 बजे दिया जाता था.

स्कूल में शिक्षक सिंह ने बताया कि बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से 11 बजे एक संदेश मिला कि इज्तिमा (धार्मिक पर्व) के कारण स्थिति अच्छी नहीं दिखती है. बच्चों को भोजन देकर जल्दी छोड़ दिया जाए. उन्होंने कहा कि सोमवार को स्कूल से सभी लोग जल्दी निकल गए थे. ज़िला प्रशासन के आदेश पर मंगलवार को स्कूल बंद थे. बुधवार को स्कूल खुलने के बाद भी कोई छात्र स्कूल नहीं आया था. स्कूल की शिक्षिका रानी ने कहा कि सोमवार से तनाव के कारण ऐसा हुआ था. उन्होंने आशा जताई कि हालात ठीक होते ही बच्चे स्कूल आ जाएंगे.

ज्ञात हो कि 3 दिसंबर को भड़की हिंसा में पुलिस इंस्पेक्ट सुबोध कुमार सिंह और 20 वर्षीय युवक सुमित की मौत हो गई थी.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+