कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

कांग्रेस ने लगाया स्मृति ईरानी पर सांसद निधि में घोटाले का आरोप, जांच की मांग

केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने करीब 6 करोड़ रूपये के काम को बिना किसी टेंडर के एक कंपनी को दे दिया. साथ ही फर्जी तरीके से पेमेंट भी की गयी है.

 

कांग्रेस पार्टी ने मोदी सरकार में कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी पर सांसद निधि के दुरूपयोग का आरोप लगाया है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सूरजेवाला और कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गहलोत ने इसे घोटाला बताते हुए जांच की मांग की है.

कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि, “ केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने करीब 6 करोड़ रूपये के काम को बिना किसी टेंडर के एक कंपनी को दे दिया. साथ ही फर्जी तरीके से पेमेंट भी की गयी है. इसलिए स्मृति इरानी के खिलाफ घोटाले का मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए.

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि “सबसे पहले स्मृति ईरानी को उनके पद से हटाकर जांच शुरू कर देनी चाहिए. क्योंकि यह मामला बहुत ही गंभीर है.”

वहीं, शक्ति सिंह गोहिल ने कहा, ‘पीएम मोदी ने कहा था कि मैं न खाता हूं और न खाने देता हूं, लेकिन सच्चाई है कि पीएम और उनके करीबी करोड़ों से कम खाते नहीं, सच बोलने वाले को चैन की रोटी खाने नहीं देते हैं.”

शक्ति सिंह ने आगे कहा “स्मृति ईरानी ने सांसद बनने के बाद एक गांव गोद लिया था, दरअसल उन्होंने गांव गोद नहीं लिया, बल्कि गांव को मिलने वाले पैसे अपने जेब के अंदर किए. आणंद जिले के कलेक्टर ने संसद निधि जारी करने वाले डिप्टी सचिव को एक लेटर लिखा था. इसमें खुलासा हुआ कि स्मृति ईरानी ने अपने सांसद निधि में घोटाला किया.”

साथ ही यह बताया कि स्मृति ईरानी ने शारदा मजदूर कामदार मंडली को बिना निविदा के ही 232 कार्यों के ठेके और 5.93 करोड़ रुपये का भुगतानकिया है. जिसमें 84.53 लाख रुपये का फर्जी तरीके से भुगतान किया गया है.

न्यूज़सेंट्रल24x7 को योगदान दें और सत्ता में बैठे लोगों को जवाबदेह बनाने में हमारी मदद करें
You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+