कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी का कश्मीर मुठभेड़ पर नकली, उत्तेजक बयान सोशल मीडिया पर प्रसारित

Altन्यूज़ की पड़ताल

“जिस फौजी ने बेक़सूर आतंकवादी को घसीटा उसको फांसी दो नहीं तो देश में आग लगा देंगे” – यह बयान कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी के नाम से फेसबुक पेज योगी सरकार (Yogi Sarkar) द्वारा पोस्ट किया गया है। योगी सरकार के 4,80,000 से अधिक फ़ॉलोअर्स हैं। यह बयान 17 सितंबर को पोस्ट किया गया था और अब तक 7300 से अधिक बार शेयर किया गया है।

13 सितंबर को जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए थे। मुठभेड़ समाप्त होने के बाद, मारे गए आतंकवादियों को सुरक्षा कर्मियों ने जंजीर से बांधकर घसीटा था। इस तस्वीर के संदर्भ में चतुर्वेदी के नाम से यह बयान पोस्ट किया गया है।

इस बीच चतुर्वेदी ने एक ट्वीट के माध्यम से स्पष्ट किया है कि उन्होंने वह बयान नहीं दिया है।

नकली बयानों के माध्यम से निरंतर हमला

प्रियंका चतुर्वेदी गलत सूचना के पैरोकारों का निरंतर निशाना रही हैं, जिन्होंने उनके नाम से झूठे बयान जारी किए हैं। इससे पहले, जब मंदसौर बलात्कार का मामला सामने आया था, तो कथित रूप से चतुर्वेदी का एक और नकली बयान चलाया गया था, जिसके अनुसार उन्होंने यह कहते हुए बलात्कारी का बचाव किया था कि कांग्रेस पार्टी उनके साथ खड़ी है और मुसलमानों को बलात्कार का अधिकार है।

इस नकली बयान के प्रसारित होने के बाद, चतुर्वेदी और उनकी बेटी को सोशल मीडिया पर धमकी दी गई थी।

एक अन्य उदाहरण में, जब अगस्त 2018 में जकार्ता में एशियाई खेल चल रहे थे, चतुर्वेदी के नाम से एक नकली उद्धरण घूम रहा था, जिसके अनुसार उन्होंने कहा था, “करोड़ों रुपये खर्च करके हम देश के लिए १० ग्राम सोना जीतने जाते हैं, इतने में तो कई किलोग्राम सोना ख़रीदा जा सकता है, किसान भूखा मर रहा है और इन्हें खेल और बुलेट ट्रैन की पड़ी है”।

यह भी नकली था, जैसा कि 24 अगस्त को चतुर्वेदी ने खुद एक ट्वीट में पुष्टि की थी।

सार्वजनिक व्यक्तियों के नाम से झूठे बयान फैलाना सोशल मीडिया में इस्तेमाल होने वाली सबसे अनुमानित और नियमित रणनीति रही है, जिसमें एक तस्वीर तथा उत्तेजक या हास्यप्रद संदेश को एक साथ रखा जाता है। इन उद्धरणों की स्पष्ट प्रकृति और इनके विरुद्ध स्पष्टीकरणों के बावजूद, ये रुकने का नाम नहीं लेते।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+