कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

वायु प्रदूषण में सुधार के लिये अगले दो दिनों तक मौसम देगा पूरा साथ: सीपीसीबी

सात नवंबर को दीवाली के मद्देनजर दिल्ली की हवा को बेहतर बनाये रखने में मौसम का मिजाज़ अहम भूमिका निभायेगा.

दिल्ली और आसपास के इलाकों में मौसम का मिजाज बदलने के कारण पिछले 24 घंटों में वायु प्रदूषण की स्थिति गंभीर होने के बाद अगले दो दिनों में मौसम की अनुकूलता के पूर्वानुमान को देखते हुये हवा की गुणवत्ता बेहतर होने की उम्मीद है.

दिल्ली क्षेत्र की मौसम पूर्वानुमान इकाई के वैज्ञानिक कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि रविवार को देर शाम छिटपुट बूंदाबांदी के कारण वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ने, हवा की गति में कमी आने और पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी के कारण तापमान में गिरावट दर्ज की गयी.  उन्होंने बताया कि इस सप्ताह बारिश के कोई आसार नहीं है, हवा की गति में बढ़ोतरी होगी और सात नवंबर के बाद तापमान भी बढ़ेगा.

उल्लेखनीय है कि सात नवंबर को दीवाली के मद्देनजर दिल्ली की हवा को बेहतर बनाये रखने में मौसम का मिजाज अहम भूमिका निभायेगा. प्रदूषण संबंधी नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिये पर्यावरण मंत्रालय द्वारा गठित 52 निगरानी दल दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, फरीदाबाद और गुरुग्राम में लगातार औचक निरीक्षण अभियान चला रहे हैं। वायु प्रदूषण पर नियंत्रण में अनुकूल मौसम की भूमिका को देखते हुये सभी एजेंसियों की नजरें अब मौसम विभाग पर टिकी हैं.

श्रीवास्तव ने बताया कि सात नवंबर तक दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में हवा की गति 10 से 12 किमी प्रति घंटा रहेगी। इस सप्ताह अब बारिश के कोई आसार नहीं है.  उन्होंने बताया कि रविवार को हुयी मामूली बारिश से नमी में बढ़ोतरी के कारण तापमान में कमी आयेगी.  सात नवंबर तक न्यूनतम तापमान 12 से 13 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है.

इसके बाद पश्चिमी विक्षेाभ की वजह से न्यूनतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस तक इजाफे का अनुमान है.  हवा की गुणवत्ता के लिहाज से सात नवंबर को दीवाली के मद्देनजर हालात गंभीर होने के सवाल पर श्रीवास्तव ने कहा कि बुधवार तक सुबह के समय कोहरा और धुंध रहेगी लेकिन दिन में हवा की गति बढ़ने से कोहरा और धुंध से राहत मिलेगी.

उन्होंने कहा कि नौ और दस नवंबर को एक बार फिर पहाड़ों पर बर्फबारी शुरु होने से दिल्ली सहित उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान में तीन से पांच डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की जायेगी.

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने रविवार को मौसम में बदलाव के कारण हवा की गुणवत्ता में सोमवार को दर्ज की गयी भारी गिरावट के बाद अगले दो दिनों तक मौसम में सुधार के आसार को देखते हुये वायु प्रदूषण की स्थिति में भी सुधार की उम्मीद जतायी है.  सीपीसीबी के सदस्य सचिव प्रशांत गार्गव ने कहा कि पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने पर नियंत्रण सहित प्रदूषण संबंधी नियमों का पालन सुनिश्चिति होने पर भी हवा का स्तर निर्भर करेगा.

गार्गव ने बताया कि सोमवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक पर हवा की स्थिति 418 अंक पर गंभीर श्रेणी में दर्ज की गयी.  जबकि रविवार को सूचकांक पर यह 171 अंक पर थी.  उन्होंने कहा कि मौसम की अनुकूल परिस्थितियों के अनुमान को देखते हुये अगले दो दिनों में हवा की गुणवत्ता में सुधार की उम्मीद की जा सकती है. उन्होंने बताया कि दीवाली को देखते हुये निगरानी अभियान तेज कर दिया है.  रविवार को सूचकांक पर हवा की गुणवत्ता का स्तर 340 था.

 

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+