कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

शर्मनाक: वोटिंग प्रक्रिया में ग़लती की शिकायत करने वाले शख़्स को दिल्ली पुलिस और चुनाव आयोग ने किया प्रताड़ित

मिलन गुप्ता ने लिखा कि अधिकारियों ने उन पर शिकायत न करने का दबाव डाला.

दिल्ली के एक वोटर ने शिकायत की है कि उन्होंने वोटिंग में हो रही गड़बड़ी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई तो चुनाव आयोग के अधिकारियों ने उसे धमकाया और प्रताड़ित किया. मिलन गुप्ता नामक इस वोटर ने ट्विटर पर यह जानकारी साझा की है.

दरअसल, रविवार, 12 मई को दिल्ली में हुए मतदान में मिलन गुप्ता ने हिस्सा लिया था. मटियाला के एक बूथ पर वोट देने के बाद मिलन ने पाया कि उन्होंने जिस उम्मीदवार को वोट दिया, वीवीपैट मशीन ने उस उम्मीदवार का नहीं बल्कि दूसरी पार्टी का सिंबल दिखाया. मिलन ने इसकी शिकायत चुनाव करा रहे अधिकारियों से की. इस पर अधिकारियों ने उसे धमकाया और कहा कि वह वोटिंग को चैलेंज नहीं कर सकता है. अधिकारियों ने उसे जेल भेजने की धमकी भी दी.

विवाद बढ़ जाने पर चुनाव अधिकारियों ने मिलन गुप्ता से कहा कि ईवीएम का कोई बटन दबाएं. जब ऐसा किया गया तो वीवीपैट मशीन ठीक काम कर रही थी और सही उम्मीदवार को वोट जाते पाया गया. इसके बाद चुनाव अधिकारियों ने मिलन गुप्ता को पुलिस से गिरफ़्तार करा लिया. हालांकि, मिलन गुप्ता ने जोर देकर कहा है कि उनके वोट के साथ छेड़छाड़ हुई है. उन्होंने जिस उम्मीदवार को वोट दिया है, उसे नहीं बल्कि दूसरे उम्मीदवार के हिस्से में वोट गई है.

इसके बाद मिलन गुप्ता ने कई ट्वीट लिखकर इसकी जानकारी साझा की है. उन्होंने कहा है कि पुलिस ने उन्हें द्वारका थाने में घंटो तक बिठाए रखा. इसके बाद पुलिस कर्मी चुनाव अधिकारियों से लगातार फोन पर बात कर रहे थे. फिर कुछ घंटे बाद पुलिस उन्हें घर तक छोड़ कर आई.

मिलन गुप्ता के ट्वीट इस प्रकार से हैं:

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+