कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

देश मेरा, वोट मेरा, मुद्दा मेरा: आम चुनाव में जनता से जुड़े मुद्दे उठाने के लिए साथ आए 600 से ज्यादा सामाजिक संगठन

इन संगठनों में स्वराज अभियान, नेशनल अलायंस ऑफ पीपल्स मूवमेंट, ऑल इंडिया किसान संघर्ष समन्वय समिति और पेंशन परिषद समेत अन्य शामिल हैं.

चुनावी समर में वास्तविक मुद्दों को वापस लाने के लक्ष्य के साथ ‘नागरिक समाज संगठन’ भाजपा नीत सरकार की विफलताओं को रेखांकित करने के लिए इस हफ्ते के अंत से राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू करेंगे. नागरिक समाज संगठनों ने सोमवार को यह जानकारी दी.

इन संगठनों में स्वराज अभियान, नेशनल अलायंस ऑफ पीपल्स मूवमेंट, ऑल इंडिया किसान संघर्ष समन्वय समिति और पेंशन परिषद समेत अन्य शामिल हैं. उन्होंने कहा कि अभियान का मकसद असल मुद्दों को चुनावी समर में वापस लाना है और कृषि संकट, घृणित अपराध तथा बेरोज़गारी जैसे मुद्दों के प्रति जागरूकता को बढ़ाना है.

तेईस मार्च को शहीद दिवस के मौके पर 600 से ज्यादा नागरिक समाज संगठन ‘देश मेरा, वोट मेरा, मुद्दा मेरा’ अभियान शुरू करेंगे. इस दौरान समूचे देश में रैलियां, मार्च, मानव श्रृंखला और संगोष्ठियों का आयोजन किया जाएगा.

सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदर ने कहा कि राष्ट्रवाद के नाम पर जब सभी चुनावी मुद्दों का अपहरण कर लिया गया हो, ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि हमारे संवैधानिक मूल्यों का समन्वय करने वाले नागरिक समाज,सामाजिक आंदोलन और समूह लोकतांत्रिक संतुलन को बहाल करने के लिए अपनी ऊर्जा का इस्तेमाल करें.

स्वराज अभियान के योगेंद्र यादव ने कहा कि अभियान का लक्ष्य कृषि संकट, घृणित अपराध, बेरोजगारी, दलितों, महिला पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर हमले जैसे मुद्दों पर जागरूकता को बढ़ाना है. उन्होंने कहा कि जब वास्तविक और असुविधाजनक मुद्दे सतह पर आना शुरू हुए तो अचानक से सारी तवज्जो राष्ट्रीय सुरक्षा की ओर चली गई, जिससे मौजूदा सरकार अपने रिकॉर्ड की आलोचनात्मक पड़ताल से बच गई.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+