कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

मोदी जी, अब आप अपनी रैली में मनरेगा मजदूर, असंगठित क्षेत्र के कामगार और करोड़ों बेरोज़गारों से क्यों नहीं पूछते कि अच्छे दिन आए या नहीं?- दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने पीएम मोदी से पूछा कि नोटबंदी के कारण 50 लाख नौकरियां गईं, इसका गुनहगार कौन? जवाब देंगे प्रधानसेवक जी?

कांग्रेस नेता और भोपाल लोकसभा सीट से पार्टी के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने मजदूर दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा सरकार से पिछले पांच सालों का हिसाब मांगा है. “दस दिन दस सवाल रोज” मुहिम की शुरुआत करते हुए दिग्विजय सिंह ने रोज़गार और नोटबंदी सहित कई मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी से जवाब मांगा है.

नोटबंदी से हुए रोज़गार की क्षति पर ध्यान दिलाते हुए दिग्विजय सिंह ने लिखा है कि जिस नोटबंदी पर प्रधानमंत्री मोदी गुमान करते रहे उसे लेकर RSS के भारतीय मजदूर संघ ने कहा था कि नोटबंदी के कारण चार से पांच करोड़ मजदूरों का रोजगार चला गया. दिग्विजय सिंह ने पूछा है कि श्रमिकों के साथ यह अन्याय क्यों किया गया है.?

बेरोज़गारी के मामले पर मोदी सरकार को घेरते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा है कि भाजपा की सरकार में बेरोज़गारी की दर 6.1 प्रतिशत से अधिक हो गई है, जो पिछले 45 सालों में सबसे ज्यादा है. इसके साथ ही दिग्विजय सिंह ने पूछा है कि 2018 में देश में 1.1 करोड़ नौकरियां खत्म हुईं नोटबंदी के कारण 50 लाख नौकरियां गईं, इसका गुनहगार कौन है?

मध्यप्रदेश की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार को घेरते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा है कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के अनुसार 2016 में मध्यप्रदेश में बेरोज़गारी की दर 4.1 प्रतिशत थी, जो दिसंबर 2018 में बढ़कर 9.8 प्रतिशत तक पहुंच गई. इस पर दिग्विजय सिंह ने पूछा है कि प्रदेश में बेरोज़गारी की दर राष्ट्रीय औसत से भी अधिक क्यों हो गई?

मजदूर संगठनों की सलाह के बिना ईज़ ऑफ बिजनेस के नाम पर मजदूरों की सुरक्षा से जुड़े 44 कानूनों को ख़त्म कर सिर्फ 4 नए कोड बनाने के प्रयास पर भी दिग्विजय सिंह ने सवाल उठाए हैं. उन्होंने पूछा है कि सिर्फ फ़ैक्ट्रियों को सुरक्षित रखा जा रहा है मज़दूरों को क्यों नहीं?

स्वरोजगार में कम आमदनी होने को लेकर मोदी सरकार को घेरते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा है, “मोदी जी, आप कहते है कि युवा नौकरी माँगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बनें. लेकिन आँकड़े बताते हैं कि देश में 80% स्वरोज़गार वालों की मासिक आय ₹10000 से कम है!” कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने पूछा है कि 10 हजार महीने में युवा अपना घर चलाएं या दूसरों को रोज़गार दें. इस तरह के जुमलों से मोदी सरकार बेरोज़गारों का मजाक क्यों बना रही है?

दिग्विजय सिंह ने छठा सवाल पूछते हुए लिखा, “कांग्रेस ने आज़ादी के बाद सार्वजनिक क्षेत्र के मज़बूत उद्यम लगाए थे. यह देश की आर्थिक और सामरिक सुरक्षा की रीढ़ रहे थे. मोदी जी ने सिर्फ़ पाँच साल में सत्तर सालों की मेहनत पर पानी फेर दिया. ONGC, BHEL, HAL, LIC, SBI, BSNL सभी नवरत्न कम्पनियाँ आपके राज में डूब गई! कैसे?”

दिग्विजय सिंह ने सातवे सवाल में ओएनजीसी के विकास को लेकर पूछा, “ONGC का हाल देख लीजिए. देश की सबसे ज़्यादा ‘cash rich’ कम्पनी थी.  2013-14 में 10798.9 करोड़ कैश था. जो साल 2014-15 में 118.5 करोड़ हो गया. वहीं 2015-16  में 13.9 करोड़,  साल 2016-17  में 42.7 करोड़ और साल 2017-18 में  29.6 करोड़ रह गया है! यही है विकास? नया बनाया नहीं, पुराना बर्बाद कर दिया!”

दिग्विजय सिंह ने एचएएल के नुकसान को लेकर पीएम मोदी से आठवां सवाल किया, उन्होंने कहा, “HAL सामरिक सुरक्षा की रीढ़ है, मुनाफ़े में भी रही है. इतना मुनाफ़ा कि ख़ुद मोदी सरकार को 11,024 करोड़ कैश ट्रान्स्फ़र किया और 4,631 करोड़ का डिवीडेंड भी दिया. और आज? पहली बार सैलरी के लिए ₹ 781 करोड़ का क़र्ज़ लेना पड़ा! जो हमने बनाया, आपने क्यों बर्बाद किया मोदी जी?”

भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी ने नौवा सवाल सरकारी बैंकों के घटते मुनाफे को लेकर पूछा, “सरकारी बैंक मुनाफ़े में थे, अब लगातार घाटे में जा रहे हैं 2013-14 में 37,393 करोड़, साल 2014-15 में मुनाफा 45,743 कोरड़, साल 2015-16 में मुनाफा घटकर 17,993 करोड़ पहुंचा. वहीं साल  2016- 17  में  11,389 करोड़, साल  2017-18 में 87,357 करोड़, साल  2018-19 में 80,000 करोड़ तक मुनाफा लुढ़क गया. भारत की शान SBI भी घाटे में ले आए.”

अपने अंतिम और दसवें सवाल में दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी से अच्छे दिनों पर तंज कसते हुए पूछा, “मोदी जी, चुनाव ख़त्म होने को हैं. आपने 2014 में अच्छे दिनों का सपना दिखाकर वोट लिया था. आप अपनी रैली में जनता से क्यों नहीं पूछते कि अच्छे दिन आए कि नहीं! आप मनरेगा मजदूर, असंगठित क्षेत्र के कामगार और करोड़ों बेरोज़गारों से क्यों नहीं पूछते कि उनके दिन कैसे हैं?”

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह के सामने मालेगांव आतंकी हमले की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव मैदान में उतारा है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+