कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

फैक्ट चेकः मध्यप्रदेश के पूर्व BJP अध्यक्ष ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, लेकिन खुद हो गए एडिट विडियो का शिकार

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

“UP में ऐसी भी महिलएँ हैं जो हर हफ्ते बच्चा देती हैं , साल भर में 52 बच्चे देती हैं।”

ये शब्द, छह सेकेंड की एक वीडियो क्लिप के अनुसार, भाजपा की मध्य प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार चौहान ने कहे हैं। इस क्लिप को सोशल मीडिया में शेयर किया गया है।

यह वीडियो ट्विटर और फेसबुक समेत विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर व्यापक रूप से प्रसारित किया जा रहा है।

उपरोक्त ट्वीट इन शब्दों के साथ पोस्ट किया गया है, “नंदकुमार सिंह चौहान के बिगड़े बोल महिलाओं को फिर किया अपमानित”। यह वीडियो फेसबुक पर वायरल हो गया है जहां कई अलग-अलग यूज़र्स ने इसे अपनी टाइमलाइन पर, बदले हुए संदेश के साथ अपलोड किया है।

क्लिप्ड वीडियो

यह वीडियो क्लिप संपादित की हुई है। दरअसल, नंदकुमार चौहान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का ज़िक्र कर रहे थे। पूरी साउंड बाईट के अनुसार, चौहान कह रहे थे कि यह राहुल गांधी थे जिन्होंने एक रैली में यह हास्यास्पद टिप्पणी की थी। नीचे पोस्ट किया गया वीडियो, चौहान और उनके आसपास रहे संवाददाताओं के बीच इस पूरे संवाद को दर्शाता है।

यह पूरा संवाद नीचे पोस्ट किया गया है :

चौहान : कांग्रेस क्या कहती है, यह राहुल गांधी के उस वीडियो में देखा जा सकता है जो आज वायरल हुआ है।

संवाददाता : किस तरह का वीडियो? इस वीडियो पर आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

चौहान : लोग प्रतिक्रिया दे रहे हैं। आज उन्होंने (राहुल गांधी ने) इस वीडियो में कहा कि यूपी में ऐसी भी महिलाएँ हैं जो हर हफ्ते बच्चा देती हैं, साल भर में 52 बच्चे देती हैं।

चौहान ने राहुल गांधी के क्लिप्ड वीडियो का हवाला दिया था

दिलचस्प बात यह है कि नंदकुमार चौहान खुद गलत सूचनाओं के शिकार हो गए थे। वह राहुल गांधी के एक क्लिप्ड वीडियो का ज़िक्र कर रहे थे जो व्यापक रूप से प्रसारित किया जा रहा था। ऑल्ट न्यूज़ द्वारा इसकी तथ्य-जांच की गई थी।

विचाराधीन वीडियो, यूपी के फूलपुर में राहुल गांधी के नवंबर 2011 के एक संबोधन का है। इसके पूरे वीडियो में गांधी को राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तहत जननी सुरक्षा योजना के संदर्भ में बोलते हुए सुना जा सकता है, जिसमें गर्भवती महिलाओं को संस्थागत प्रसव के लिए 1400 रुपये का प्रोत्साहन मिलता है। उस संदर्भ में, गांधी ने दावा किया था कि एक आरटीआई प्रतिक्रिया के अनुसार, इस योजना में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार था, और एक ही नाम की महिलाओं को हर हफ्ते प्रोत्साहन मिल रहा था। वह वीडियो नीचे पोस्ट किया गया है। संबंधित भाग 5:25वें मिनट से शुरू होता है।

राहुल गांधी के हूबहू शब्द ये थे-

“हमने आरटीआई मांगा, आरटीआई में जो हमें रिपोर्ट मिली, यूपी में ऐसी महिलाएं हैं, जो हर सप्ताह एक बच्चा पैदा कर सकती हैं, ऐसी महिलाएं हैं जो साल में 52 बच्चे दे रही हैं, एक ही नाम है, 1400 रुपये हर सप्ताह उसकी जेब में, और एक ही एक महिला नहीं है, हज़ारों महिलाएं हैं।”

उनके भाषण में वह हिस्सा जिसमें वह कहते हैं, “यूपी में ऐसी महिलाएं हैं, जो हर सप्ताह एक बच्चा पैदा कर सकती हैं, ऐसी महिलाएं हैं जो साल में 52 बच्चे दे रही हैं”, को क्लिप करके प्रसारित कर दिया गया, और इस प्रकार, एक गलत धारणा को हवा दी गई। नीचे पोस्ट किया गया, मोदी समर्थक रेणुका जैन का ट्वीट, एक उदाहरण है।

निष्कर्षतः, यह विडंबना है कि मध्य प्रदेश के पूर्व भाजपा अध्यक्ष, संपादित वीडियो क्लिप के आधार पर एक गलत बयान के लिए राहुल गांधी का मजाक उड़ाते हुए, खुद उसी संपादित वीडियो क्लिप का शिकार हो गए।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+