कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

राजस्थान में कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए सांप्रदायिक संदेश के साथ फ़ैलाया जा रहा अप्रासंगिक विडियो, जानें सच्चाई

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

“आ गई कांग्रेस सरकार हो गया बलात्कार शुरू ए विडियो राजस्थान का हे एक हिन्दू लडकी को मारा ओर घर मे लेजाकर बलात्कार किया वहा कि पूलीस भी कूछ नही कर रही क्यू कि ये जो लड़के हे जो मुस्लिम है वहा मुस्लिम आबादी जादा हे आज इसके साथ हूवा हे कल आप के साथ भी होगा इसकी मदत करो हाथ जोडता हू इस जगह अपनी बहन बहन समझकर इसको इतना फेलाओ कि मीडीया और बेटी बचावो नारा देनेवाले तक पहुचा दो इंसानियत के वासते जितनेभी ग्रुप है उसमे छोड़ते रहो रुकना नही चाहिए”, यह एक औरत का ज़ोर ज़ोर से विलाप करते हुए वीडियो का शीर्षक था, जो सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है।

इस पोस्ट के अनुसार, राजस्थान में एक हिन्दू औरत का बलात्कार हुआ फिर उसे जान से मार दिया गया, जिसकी मृत्यु के बाद ये औरत अन्य लोगों के साथ मातम मना रही थी। ऐसा दावा किया जा रहा है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार के आने के बाद ये हादसा हुआ है। वीडियो के साथ संदेश भी ये दावा करता है कि स्थानीय पुलिस अपराधियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं ले रही है, क्यूंकि वे मुस्लिम समुदाय के है, और ये हादसा मुस्लिम बहुल क्षेत्र में हुआ है।

कई लोगों ने फेसबुक और यूट्यूब पर इस वीडियो और इसी कहानी के साथ इस पोस्ट को शेयर किया है।

झूठे दावे के साथ वीडियो फैलाया गया

क्रोम के एक्सटेंशन, Invid, के ज़रिये ऑल्ट न्यूज़ ने वीडियो को कई फ्रेम में तोड़ कर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया। रिवर्स सर्च से पता चला कि वीडियो में लोग BSF के स्वर्गीय कांस्टेबल हंसराज गुर्जर की शहादत पर मातम मना रहे हैं। हंसराज गुर्जर जम्मू और कश्मीर के साम्बा ज़िले में चमलियाल पोस्ट एरिया के अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर गोलीबारी के दौरान मारे गए थे।

न्यूज़ 18 में प्रकाशित Photo Story में दुखी औरत का नाम मंजू देवी बताया गया, जो शहीद की बीवी है। रिपोर्ट में आगे यह भी लिखा है, “इस दौरान हंसराज के पैतृक गांव मुगलपुर में शहीद को अंतिम सलाम करने जन सैलाब उमड़ पड़ा। जब शहीद की पार्थिव देह घर पहुंची तो पत्नी मंजू देवी की हालत बिगड़ गई।”

14 जून 2018 को हिंदुस्तान टाइम्स अखबार में प्रकाशित एक लेख में रिपोर्ट किया गया कि गुर्जर के 15 दिन के बेटे ने अपने पिता को अग्नि दी, क्यूंकि उनकी बीवी बहुत ही शोकाकुल थी। “हंस राज 14 जून को अपने नवजात बच्चे के कुअला पूजन के लिए अपने गाँव पहुंचने वाले थे। संस्कार 15 जून को होना था। अपने बेटे की मौत की खबर सुन कर भी 70 साल के रामेश्वर गुर्जर ने कहा की वो अपने पोते को फ़ौज में ही भेजेंगे”। हमें यूट्यूब पर जून 2018 का एक वीडियो भी मिला, जिसका शीर्षक था, “हंसराज गुर्जर बानसूर, भारत माँ की जय, जय हिंद जय भारत”। SMHoaxslayerने पहले ही इसकी तथ्य जांच कर ली थी।

शहीद की मौत पर मातम मनाने वाले परिवार का 6 महीने पुराने वीडियो को गलत तरीके से मुस्लिमों द्वारा हिन्दू लड़की के बलात्कार और मौत पर मातम मनाते हुए दिखाया गया है। पिछले एक साल से हम देख रहे हैं कि कैसे गलत सूचना को भारत में अल्पसंख्यकों को निशाना बनाते हुए इस्तेमाल किया जा रहा है। (ऑल्ट न्यूज़ का ये संकलन पढ़िए)। सोशल मीडिया पर ये कहानी भी खूब चल रही है कि तीनों हिंदी भाषी राज्यों के विधान सभा चुनावों में कांग्रेस के जीतने के बाद हिन्दू कौम भारी संकट में है।

अनुवाद: ममता मंत्री के सौजन्य से

न्यूज़सेंट्रल24x7 को योगदान दें और सत्ता में बैठे लोगों को जवाबदेह बनाने में हमारी मदद करें
You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+