कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

फ़ेक न्यूज़ः “PM मोदी के ख़िलाफ़ बोलने के लिए अभिसार शर्मा ने बुजुर्ग को पैसे दिए” का झूठा दावा वायरल

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

पत्रकार अभिसार शर्मा की एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया में व्यापक रूप से शेयर की गई है। इस वीडियो क्लिप में, शर्मा आगामी चुनाव के मुद्दों के बारे में ग्रामीणों से बात करते हुए, और इसी दौरान एक व्यक्ति को कागज का टुकड़ा देते हुए, दिखते हैं। इस क्लिप को कई प्रमुख सोशल मीडिया अकाउंट्स द्वारा इस दावे के साथ शेयर किया गया है कि शर्मा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बोलने के लिए ग्रामीणों को रिश्वत दे रहे हैं। वीडियो में ऊपर दाएं कोने में, “अभिसार शर्मा – अपने पक्ष में बोलने के लिए ग्रामीणों को $ वितरित करता है”लिखा हुआ (सुपरइंपोज्ड) है।

पूर्व सेनाधिकारी मेजर सुरेंद्र पूनिया उन लोगों में से हैं जिन्होंने इस वीडियो क्लिप को पोस्ट किया है। इस क्लिप के साथ पूनिया के संदेश में लिखा है, “रामनाथ गोयनका पत्रकारिता अवार्ड विजेता ये पत्रकार वीडियो के अंत में बुज़ुर्ग को क्या दे रहे हैं ? ध्यान से देखो… ये कहते है-ये लेख की क्लिप दे रहे हैं बुज़ुर्ग को… जनता क्या इतनी बेवक़ूफ़ है? भाई क्लिप या स्लिप कुछ भी देते रहो,लेकिन जीतेगा चौकीदार ही”।मेजर पूनिया द्वारा पोस्ट की गई वीडियो क्लिप 1:30 मिनट लंबी है, जबकि ट्विटर पर हैंडल @padhalikha और @being_humor द्वारा सात सेकंड की एक छोटी वीडियो क्लिप भी शेयर की गई है।

उपरोक्त ट्वीट को  4,700 से ज्यादा बार रिट्वीट किया गया है। इस वीडियो को उद्धृत करते हुए विकास पांडेय ने भी ट्वीट किया है।

सिर्फ @Pokershash के अकाउंट से, इस वीडियो को अब तक 56,000 से अधिक बार देखा गया है। ट्वीट को अब डिलीट कर दिया गया है। यह वीडियो इसी दावे के साथ, @smokingskills_ और शेफाली वैद्य ने भी ट्वीट किया है।

इसे फेसबुक पर भी अपलोड किया गया है। एक पेज ‘टोलरेंट इंडियंस‘ जिसकी फ़ॉलोअर संख्या 2,25,000 से अधिक है और पेज ‘द जेनुइन ट्रुथ‘ जिसे 3,00,000 से अधिक फेसबुक यूजर्स फॉलो करते हैं, द्वारा भी पोस्ट किया गया है। परफॉर्म इंडिया नामक फ़ेसबूक पेज से भी 1.30 मिनट का विडियो इस संदेश से शेयर किया गया है, “देखिए कांग्रेसी चमचे की करतूत, ‘दल्ले’ अभिसार शर्मा पैसे बांटते समय तो कैमरा ऑफ कर लेता”।

नकदी नहीं, समाचार क्लिप

अभिसार शर्मा ने एक ट्वीट के माध्यम से स्पष्ट किया है कि उन्होंने वीडियो में दिखलाई दे रहे बुजुर्ग को धन नहीं, बल्कि एक अखबार की क्लिपिंग दी थी। प्रतिउत्तर में शर्मा ने उसी अवसर का एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें वह बुजुर्ग, उन्हें अखबार की एक क्लिप देते हुए दिखते हैं। बाद में, कागज का यही टुकड़ा वापस करते हुए वे दिखलाई पड़ते हैं।

इस वीडियो को पूरा देखने पर यह साबित हो जाता है कि अभिसार शर्मा द्वारा उस व्यक्ति को दिया गया कागज का टुकड़ा अखबार की क्लीपिंग है, कोई करेंसी नोट नहीं।

अभिसार शर्मा ने हैंडल @pokershash के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी थी, जिसने वीडियो को झूठे संदेश के साथ पोस्ट किया था और बाद में उसे डिलीट कर लिया। हालांकि, @pokershash ने इस बारे में क्षमा याचना जारी की है।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+