कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

क्या “चीन युद्ध में विफलता” के बाद 1962 में लोगों द्वारा जवाहर लाल नेहरू पर हमला हुआ था?

Alt न्यूज़ की पड़ताल

हाल ही में, जवाहरलाल नेहरू की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर कुछ उपयोगकर्ताओं द्वारा शेयर की गई थी, जिसमें संदेश था कि 1962 में “चीन युद्ध में विफलता” के बाद भारत के पहले प्रधानमंत्री को लोगों ने मारा था।

2016 में, ट्विटर उपयोगकर्ता महावीर मेहता ने भी इस तस्वीर को प्रसारित किया था। उन्होंने दावा किया था कि “जम्मू-कश्मीर के साथ चीन युद्ध में विफलता के लिए” नेहरू को लोगों ने मारा था। मेहता को ट्विटर पर पीएम मोदी और रेल मंत्री पियुष गोयल के कार्यालय द्वारा फॉलो किया जाता है। उनकी पोस्ट में बताया गया था कि वह तस्वीर 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद ली गई थी।

कई अन्य ट्विटर उपयोगकर्ता जिन्हें पीएम मोदी समेत बीजेपी नेताओं द्वारा फॉलो किया जाता है, पिछले कई वर्षों से इस तस्वीर को प्रसारित करते रहे हैं। ऑल्ट न्यूज ने सबसे पुराना उदाहरण 2013 का पाया जो नीचे कोलाज में देखा जा सकता है।

कई वेबसाइटों / ब्लॉगों ने भी वही तस्वीर शेयर की है।

अलग दावे के साथ भी प्रसारित

इस महीने की शुरुआत में, उसी तस्वीर को दुसरे संदेश के साथ शेयर किया गया था जिसमें कहा गया था कि 1946 में पूर्व प्रधानमंत्री को गिरफ्तार किया गया था जब उन्होंने वीज़ा के बिना कश्मीर में प्रवेश करने का प्रयास किया था। वही दावा फेसबुक पर एक व्यक्तिगत उपयोगकर्ता द्वारा अगस्त 2018 में भी शेयर किया गया था। इस पोस्ट को 3,400 बार शेयर किया गया।

This is how Mr Ramchand Kak then PM of J&K State Kashmir arrested Nehru to enter in Kashmir without visa… How Kashmir is integral part of so called democratic India.

Bashir Shahdhar ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶುಕ್ರವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 31, 2018

कई अन्य पेजों और उपयोगकर्ताओं ने उसी दावे के साथ वही तस्वीर प्रसारित की है। इनमें वह भी शामिल है जो खुद को “भारत के कब्जे वाले कश्मीर” का हिस्सा बताता है।

1962 की एक असंबद्ध घटना से संबंधित तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ ने तस्वीर से संदेश को हटाकर इसकी गूगल पर रिवर्स सर्च की तो पाया कि इसे 2014 में आउटलुक मैगज़ीन द्वारा प्रकाशित किया गया था। तस्वीर का कैप्शन था – “नेहरू को 1962 में एक दंगाकारी भीड़ में गिरने से रोका गया था, युद्ध से पहले”। यह तस्वीर एपी (एसोसिएटेड प्रेस) द्वारा जारी की गई थी।

हमने “नेहरू 1962” कीवर्ड के साथ एपी के संग्रह में तस्वीर की खोज की और पाया कि वास्तव में उसे उसी वर्ष लिया गया था। एपी ने इस तस्वीर का वर्णन किया था – “एक सुरक्षाकर्मी ने भारतीय प्रधानमंत्री नेहरू को जनवरी 1962 में भारत के पटना में कांग्रेस पार्टी की एक बैठक में एक दंगाकारी भीड़ में गिरने से रोकने के लिए पकड़ लिया। इस वर्ष बाद में, भारत पर कम्युनिस्ट चीन के हमले से नेहरू नई परेशानियों में घिर गए।” इसका तात्पर्य है कि तस्वीर 1962 में भारत-चीन युद्ध से पहले ली गई थी।

जैसा कि तस्वीर को “पटना, भारत, जनवरी 1962 में कांग्रेस पार्टी की बैठक” का शीर्षक दिया गया था, हमने उस समय प्रकाशित समाचार पत्र के संस्करणों की खोज की। जनवरी 1962 के द इंडियन एक्सप्रेस के प्रकाशनों की खोज के दौरान, news.google.com/newspapers पर हमें एक लेख मिला जो इस घटना से संबंधित था।

इंडियन एक्सप्रेस के 6 जनवरी, 1962 संस्करण में एक लेख है – अव्यवस्था के कारण खुला सत्र बीच में स्थगित। भीड़ मंच पर टूट पड़ी, कई बेहोश। नेहरू की अपील व्यर्थ।”

रिपोर्ट के मुताबिक, 5 जनवरी, 1962 को कांग्रेस का पूर्ण सत्र एक भगदड़ के चलते रुक गया, जब बड़ी संख्या में लोग नेहरू की झलक पाने के लिए लगातार आगे बढ़ रहे थे। लेख में आगे बताया गया है कि नेहरू, जिन्होंने “अपने पूरे जीवन में भीड़ को संभाला है” उन्हें नियंत्रित करने में केवल आंशिक रूप से सफल थे। “एक समय, नाराज नेहरू ने, अपनी सुरक्षा से पूरी तरह बेखबर होकर, अपनी मुट्ठी का इस्तेमाल किया और सुरक्षाकर्मियों और कांग्रेस नेताओं पर हमला किया जिन्होंने उन्हें भीड़ में कूदने से रोका था…”

8 जनवरी, 1962 को एक और प्रकाशन फ्लोरेंस टाइम्स ने भी इस घटना की सूचना दी थी – “व्यवस्था बहाली के व्यक्तिगत प्रयासों के तहत सुरक्षाकर्मियों ने भारतीय प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को पटना, भारत में शुक्रवार को उपद्रवी भीड़ में गिरने से रोकने के लिए पीछे से पकड़ लिया। भारतीय किसानों द्वारा अराजक प्रदर्शन ने नेहरू की कांग्रेस पार्टी की इस बैठक को भंग कर दिया और 24 लोगों को अस्पताल ले जाना पड़ा।”

दोनों लेख और तस्वीर का एसोसिएटेड प्रेस का विवरण मिलता है, इसलिए, “चीन युद्ध में विफलता के कारण नेहरू की भीड़ द्वारा पिटाई” के दावे पूरी तरह से झूठे हैं।

इस तस्वीर को एक और संदेश के साथ भी प्रसारित किया गया था – “पासपोर्ट के बिना अवैध रूप से कश्मीर में प्रवेश करने की कोशिश करते हुए नेहरू को गिरफ्तार किया गया था” – यह भी असत्य है क्योंकि हमने तस्वीर की सच्चाई को निश्चित रूप से पेश किया है। 1946 में, नेहरू को कश्मीर में राजनेता शेख अब्दुल्ला के वकील के रूप में प्रवेश करने से रोक दिया गया था, जिन्होंने राज्य में स्वराज की वकालत करते हुए ‘कश्मीर छोड़ो आंदोलन’ शुरू किया था। कश्मीर (रियासत) के तत्कालीन प्रधानमंत्री राम चन्द्र काक ने नेहरू के राज्य में प्रवेश को रोक दिया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि, वायरल तस्वीर इस घटना से संबंधित नहीं है।

जवाहरलाल नेहरू की तस्वीरों को अक्सर सोशल मीडिया पर झूठी कथाओं के साथ प्रसारित किया जाता है। उपर्युक्त मामले में, किए गए दावों से असंबद्ध, किसी अन्य घटना की तस्वीर को भारत के पहले प्रधानमंत्री की प्रतिष्ठा को बदनाम करने के लिए शेयर किया गया था। इससे पहले, पूर्व प्रधानमंत्री की एक तस्वीर को आरएसएस शाखा बैठक में भाग लेनेके रूप में गलत तरीके से शेयर किया गया था। एक अन्य उदाहरण में, भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने नेहरू की तस्वीरों का एक कोलाज उन्हें विभिन्न महिलाओं के साथ अनैतिक व्यक्ति के रूप में चित्रित करने के लिए प्रसारित किया था।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+