कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

फ़ेक न्यूज़ः प्रियंका गांधी ने नशे में पार्टी कार्यकर्ता को नहीं पीटा, सोशल मीडिया पर झूठे संदेश के साथ फैलाई गई झूठी ख़बर

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

ब्रेकिंग न्यूज़

*प्रियंका वाड्रा* *वोडका* के 4 शॉट के बाद पूरी तरह से नशे में धुत हो गई

वह अपनी ही पार्टी की महिला को (मुझे) मार रही है

वाह री कांग्रेस😡

लेकिन कोई समाचार नहीं

इसलिए कृपया इसे मेरी ओर से शेयर करें

सादर

रुबीना मलिक

(पूर्व कांग्रेस प्रतिनिधि)

पूर्वी यूपी कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी का एक वीडियो सोशल मीडिया में शेयर किया गया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि गांधी लोगों की भीड़ से घिरी हैं और उन्हें “हटो…” कहते हुए सुना जा सकता है। वीडियो के साथ प्रसारित संदेश के अनुसार, एक कार्यक्रम में प्रियंका नशे की हालत में थीं, जहां उन्हें कांग्रेस पार्टी से पूर्व में जुड़ी एक महिला को मारते हुए देखा गया था। पोस्ट में आगे दावा किया गया है कि इस घटना को कोई मीडिया कवरेज नहीं मिला। इसमें यह सुझाव देने का प्रयास किया गया है कि वीडियो को पार्टी से व्यथित महिला रूबीना मलिक द्वारा उपरोक्त कैप्शन के साथ प्रसारित किया गया।

सुकेश शेट्टी नामक एक यूज़र ने वीडियो को फेसबुक ग्रुप अरनब गोस्वामी फैन क्लब  पर इसी कैप्शन से साथ पोस्ट किया था। सीमा त्रिवेदी नाम की एक ट्विटर यूज़र ने इसी संदेश के साथ यह वीडियो ट्वीट किया, जिसमें कहा गया कि श्रीमती गांधी नशे की हालत में थीं।

फेसबुक और ट्विटर पर कई अन्य व्यक्तियों ने एक समान संदेश के साथ वीडियो शेयर किया है।

ऑल्ट न्यूज़ के व्हाट्सएप नंबर पर इस दावे की तथ्य-जांच करने का अनुरोध किया गया है।

पुराना वीडियो, झूठा संदेश

ऑल्ट न्यूज़ ने इससे पहले जनवरी 2019 में इस दावे को खारिज किया था। तब यह पाया गया था कि यह घटना कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कठुआ और उन्नाव बलात्कार मामलों के मद्देनजर आयोजित मध्यरात्रि कैंडललाइट विरोध रैली का है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, प्रियंका गांधी और उनके बच्चों से रैली में धक्का-मुक्की हुई, तब वह गुस्से में आ गई थीं। इसके अलावा,हिंदुस्तान टाइम्स  द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है, “पुलिस के लिए भीड़ को (उनमें से कुछ नशे में भी थे) नियंत्रित करना मुश्किल हो गया था, क्योंकि कई बैरिकेड लांघ गए थे और यहां तक ​​कि उन्हें तोड़ भी दिया। भीड़ के कारण इंडिया गेट के पास ट्रैफिक मूवमेंट भी रुक गया – (अनुवाद)।” न्यूज18 ने भी बताया कि गांधी को रैली में भीड़ ने घेर लिया था। यही नहीं, एक सामान्य गूगल खोज से यह भी पता चलता है कि रुबीना मलिक नाम की कोई भी कांग्रेस प्रतिनिधि आज तक नहीं रही है।

 

भीड़ से घिरी और उससे बचने की कोशिश करती प्रियंका गांधी का एक पुराना वीडियो, झूठे दावे के साथ शेयर कर दिया गया कि उन्होंने एक पार्टी कार्यकर्ता को नशे की हालत में मारा। पूर्वी यूपी के लिए कांग्रेस महासचिव के रूप में उनकी नियुक्ति के बाद से, श्रीमती गांधी को सोशल मीडिया में गलत सूचना के माध्यम से लगातार निशाना बनाया गया है।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+