कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

राहुल गांधी के वायनाड से चुनाव लड़ने की अटकलों के बाद वहां पाकिस्तानी झंडे लहराने की झूठी ख़बरें वायरल

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

“ये थी असली वजह अमेठी से भागने की तो आप देश को इस्लामिक बनाने की राह पे हैं क्योंकि हाथो तिरंगा नही कुछ और ही हैं फिर ये नकली हिन्दू का ढोंग क्यों राहुल ? जिनके दादा ही हिन्दू होने पे शर्म करते थे वो भला दिल से हिंदुत्व को स्वीकार कभी नही कर सकता हैं।”

उपरोक्त संदेश, आसन्न लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के केरल के वायनाड से चुनाव लड़ने की अटकलों के बाद शेयर किया गया है। एक वीडियो के साथ शेयर किए गए इस संदेश में एक सड़क पर रैली में लहराते हरे रंग के झंडे दिखते हैं जिन पर अर्धचंद्र है। यह वीडियो 24 सेकंड लंबा है। वीडियो क्लिप के ऊपरी दाएं कोने में News18  का लोगो देखा जा सकता है।

https://www.facebook.com/NationWantsNaMo/videos/1143979495808582/

उपरोक्त पोस्ट, 2,30,000 से अधिक फ़ॉलोअर्स वाले एक फेसबुक पेज नेशन वांट्स नमो  का है और इसे अब तक 4300 से अधिक बार शेयर किया गया है। इस वीडियो में ‘वायनाड ने इस्लामिक झंडों से किया कांग्रेस के फैसले का स्वागत‘ का वॉटरमार्क है।

यह वीडियो ट्विटर और फेसबुक पर व्यापक रूप से शेयर किया गया है। यह वीडियो अंग्रेजी में वैकल्पिक कैप्शन के साथ भी शेयर किया गया है जिसमें लिखा है-

राहुल केरल के वायनाड से चुनाव लड़ने वाले हैं। देखिए पाकिस्तान के झंडे लहराते हुए वायनाड में कौन जश्न मना रहा है। अब आप जानते हैं कि कांग्रेस ने इस निर्वाचन क्षेत्र को क्यों चुना।-(अनुवाद) यह वीडियो तेलुगु में संदेश के साथ भी शेयर किया गया है।

यह वीडियो फेसबुक पर हिंदी संदेश के साथ भी वायरल है।

यह संदेश व्हाट्सएप्प पर भी व्यापक रूप से शेयर किया गया है।

पाकिस्तान नहीं, IUML का झंडा

वीडियो में दिखे हरे रंग के झंडे इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के बैनर का प्रतिनिधित्व करते हैं। IUML केरल की एक राजनीतिक पार्टी है। इसका बैनर पाकिस्तान के राष्ट्रीय ध्वज से काफी अलग है। दोनों को तुलना के लिए नीचे अगल-बगल रखा गया है।

IUML कैडरों की वह सभा और उत्सव, राहुल गांधी द्वारा वायनाड से चुनाव लड़ने की अपुष्ट खबरों की प्रतिक्रिया में था। यह ध्यान देने योग्य है कि IUML आसन्न आम चुनाव में UDF के साथ गठबंधन में है। न्यूज़18 केरल ने 26 मार्च को इस सभा की खबर की थी। नीचे दिए गए वीडियो में, 5:45वें मिनट से संबंधित हिस्सा देखा जा सकता है, जिसमें हरे रंग के IUML बैनर दिखाई देते हैं।

ऑल्ट न्यूज़ ने कई मौकों पर देखा है कि कैसे, राजनीतिक रैलियों में हरे रंग के बैनरों के पाकिस्तानी झंडे होने के दावे किए जाते हैं और फिर, इस गलत सूचना को विभिन्न प्लेटफार्मों पर व्यापक रूप से शेयर कर दिया जाता है। इससे पहले मई 2018 में, कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले, कांग्रेस की रैली में IUML के झंडे को पाकिस्तानी झंडा होने का झूठा आरोप लगाया गया था। कुछ दिनों पहले भी, वही वीडियो उसी दावे के साथ सोशल मीडिया में फिर से आया था।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+