कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

फ़ेक विडियो शेयर कर बार-बार गच्चा खा रही हैं स्मृति ईरानी, राहुल पर लगाया आरोप झूठा निकला

एक वृद्ध महिला का विडियो शेयर करते हुए स्मृति ईरानी ने आरोप लगाया था कि राहुल बूथ कैप्चरिंग करवा रहे हैं. चुनाव आयोग ने इस आरोप को बेबुनियाद बताया है.

अमेठी में सोमवार को हुए मतदान के दिन एक वृद्ध महिला का विडियो काफ़ी वायरल हुआ. विडियो में वृद्ध महिला आरोप लगा रही है कि वह कमल छाप को वोट करना चाह रही थी लेकिन उनसे जबरदस्ती हाथ छाप पर वोट डलवाया गया.

इसके बाद वायरल क्लिप को बिना पुष्टि के ही अमेठी से भाजपा प्रत्याशी और केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा ट्वीट कर दिया गया. ईरानी ने चुनाव आयोग का ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा कि राहुल बूथ पर कब्जा करवा रहे हैं.

इस ट्वीट के बाद प्रदेश के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी वेंकटेश्‍वरुलु ने कहा है कि स्‍मृति ईरानी के बूथ कैप्‍चरिंग के आरोप गलत हैं.  प्रसारित वीडियो क्लिप में वृद्धा के लगाए गए आरोप ‘’बेबुनियाद’’ हैं.

इससे पहले भी अमेठी के ज़िला अधिकारी ने स्पष्ट कर दिया था कि मतदान बहुत शांति और निष्पक्ष ढंग से समपन्न हुआ है. किसी प्रकार की बूथ कैप्चरिंग की घटना नहीं हुई है.

चुनाव आयोग के बयान आने के बाद एक बार फिर केन्द्रीय मंत्री झूठा साबित हो गई हैं. इससे पहले आयुष्मान भारत को लेकर भी उनका झूठ पकड़ा गया था.

बता दें कि बीते दिन केंद्रीय मंत्री और भाजपा प्रत्याशी स्मृति ईरानी ने एक विडियो शेयर किया था. जिसमें दावा किया था कि अमेठी में संजय गांधी अस्पताल में एक मरीज का इलाज़ महज इसलिए नहीं हुआ क्योंकि उनके पास आयुष्मान कार्ड था. इसके बाद प्रधानमंत्री ने भी अपनी चुनावी सभाओं में इसका जिक्र कर दिया.

लेकिन मीडिया रिपोर्ट और अस्पताल प्रशासन के दस्तावेजों के आधार पर यह बात निकलकर की आई कि मरीज़ का इलाज अस्पताल में ही किया गया था. हालांकि अभी तक मरीज़ का आयुष्मान कार्ड ही नहीं बना था. अस्पताल के निदेशक कैप्टन सूरज महेंद्र चौधरी ने रविवार को कहा था कि ये इल्‍जाम पूरी तरह निराधार और राजनीति से प्रेरित है.

इसे भी पढ़ें- स्मृति ईरानी का झूठ-अमेठी में आयुष्मान कार्ड धारक होने की वज़ह से हुई मरीज़ की मौत; डॉक्टर ने कहा- कार्ड नहीं था फिर भी इलाज हुआ

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+