कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असदुद्दीन ओवैसी ने संयुक्त राष्ट्र को पत्र नहीं लिखा कि भारत में मुस्लिम सुरक्षित नहीं हैं

ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल

ओवैसी ने UN को पत्र लिखा कि हिंदुस्तान में मुस्लिम सेफ नहीं है , UN से जवाब आया ‘जहाँ पर सेफ हो वहां चले जाओ” -यह संदेश AIMIM प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी की तस्वीर के साथ एक फेसबुक पेज ‘अच्छे दिन‘ द्वारा पोस्ट किया गया है.

अब आगे मर्जी आपकी है 😀

Achhe Din ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶನಿವಾರ, ಜನವರಿ 5, 2019

6 जनवरी के इस पोस्ट के अबतक 18,000 से अधिक शेयर हो चुके हैं. फेसबुक पेज ‘अच्छे दिन’ के 13 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. यह संदेश कई सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा भी शेयर किया गया है.

उम्मीदों के अनुरूप यह दावा ट्विटर पर भी फैलता हुआ पाया गया है.

सरासर झूठ

ऑल्ट न्यूज़ से बातचीत में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, “यह सरासर झूठ है. यह ट्रोल्स का काम है. दादरी मसले पर आज़म खान (सपा नेता) को लेकर मेरी प्रतिक्रिया को आप उद्धृत कर सकते हैं, जब मैंने इस मामले को संयुक्त राष्ट्र में ले जाने का विरोध किया था. हाल ही मैंने भारत के अल्पसंख्यकों को लेकर इमरान खान (पाकिस्तान के प्रधानमंत्री) के बयान की निंदा की है. मेरे द्वारा संयुक्त राष्ट्र को ऐसा कोई पत्र लिखे जाने का कोई सवाल ही नहीं बनता है – (अनुवादित).

2015 में, असदुद्दीन ओवैसी, सपा नेता आज़म खान पर जमकर बरसे थे, जब आज़म खान ने दादरी लिंचिंग प्रकरण, जिसमें एक बछड़े को काटने के संदेह में मोहम्मद अख़लाक़ की हत्या कर दी गई थी.  इसके बाद आजम खान ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून को पत्र लिखकर इसमें हस्तक्षेप करने की मांग की थी. खबरों के अनुसार, ओवैसी ने कहा था, “भारत के अंदरूनी मामले को संयुक्त राष्ट्र में ले जाकर आज़म ने भारी भूल की है. इसे देश के भीतर हल किया जाना चाहिए – (अनुवादित).

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+