कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

जुमलेबाज़ी के ख़िलाफ़ किसानों का प्रदर्शन, प्रधानमंत्री मोदी के पास भेजा 17 रुपए का चेक

किसानों का कहना है कि सरकार द्वारा दिए जा रहे इस पैसे से वह चाय भी नहीं पी सकेंगे.

मोदी सरकार ने अंतरिम बजट पेश करते हुए किसानों को पेंशन देने की घोषणा की थी. लेकिन, सरकार की घोषणा को मात्र जुमला बताते हुए किसानों ने प्रधानमंत्री मोदी को 17 रुपए का चेक भेजकर विरोध जताया है.

जनसत्ता की ख़बर के अनुसार किसान कांग्रेस की अगुवाई में किसानों ने मांग करते हुए कहा कि सरकार पहले उनका कर्ज़ माफ करे और बर्बाद फसलों का मुआवज़ा दे. किसानों ने पेंशन का विरोध करते हुए कहा कि यह राशि काफी नहीं है सरकार पेंशन योजना की राशि बढ़ाकर किसानों को दें. किसान कांग्रेस ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा तो आगामी दिनों में किसान कांग्रेस बड़ा आंदोलन शुरू करेगी.

किसान कांग्रेस के राष्ट्रीय संयुक्त समन्वयक राजू मान ने केंद्र सरकार द्वारा किसानों को सालाना छह हज़ार रुपए का भत्ता दिए जाने को जुमला करार दिया है. उन्होंने कहा कि आगामी चुनावों को देखते हुए किसानों के साथ धोखा किया जा रहा है. सरकार किसानों को एक दिन में 17 रुपए देकर उनके घावों पर मरहम लगाने की जगह नमक छिड़क रही है.

राजू मान ने आगे कहा कि इतने रुपयों में किसान का परिवार एक वक्त की चाय भी नहीं पी सकता है. इसलिए किसान 17 रुपए का चेक प्रधानमंत्री मोदी को भेज रहे हैं. किसानों का कहना है कि यह चेक भेजकर वह प्रधानमंत्री को नींद से जगाना चाहते हैं. किसानों का कहना है कि जब तक बर्बाद फसलों का मुआवज़ा और उनका कर्ज़ माफ़ नहीं होगा तब तक किसानों का संघर्ष जारी रहेगा.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+