कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

विपक्ष की रैली में बोले फारूक अब्दुल्ला- धार्मिक आधार पर देश का बंटवारा कर रही है भाजपा

फारूक अब्दुल्ला ने आगे कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राष्ट्रीय नेता के रूप में खुद को साबित करने के लिए और समय दिया जाना चाहिए.

टीएमसी सुप्रीमो ममता बैनर्जी द्वारा 19 जनवरी को कोलकाता में आयोजित संयुक्त विपक्षी रैली में पहुंचे जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री व नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि देश में लोगों को धार्मिक आधार पर बांटने का काम हो रहा है. उन्होंने ईवीएम को चोर मशीन कहते हुए बैलेट पेपर प्रणाली से चुनाव करने की मांग की.

फारूक अब्दुल्लाह ने कहा कि देश में हिन्दू-मुसलमानों को बांटने का काम किया जा रहा है. उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि आज जम्मू कश्मीर में जैसे हालात हैं उसके लिए सिर्फ भाजपा ज़िम्मेदार है. उन्होंने कहा कि लद्दाख से लेकर अन्य सभी लोग सही सलामत भारत में रहना चाहते हैं. उन्होंने आगे कहा, “मैं एक मुस्लिम हूं और मैं भारत, मेरे देश को प्यार करता हूं.”

अब्दुल्लाह ने कहा कि यह किसी एक व्यक्ति (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) को बेदखल करने का सवाल नहीं है बल्कि देश को बचाने और अपनी आज़ादी के लिए लड़ जाने वाले बलिदानियों को सम्मानित करने का सवाल है. उन्होंने ईवीएम के बारे में बात करते हुए कहा कि दुनिया में कहीं भी ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल नहीं हो रहा है. ईवीएम  के इस्तेमाल पर रोक लगाने और पारदर्शिता की ख़ातिर पुराने मतदान पत्रों को वापस लाने के लिए विपक्षी दलों को चुनाव आयोग और भारत के राष्ट्रपति से संपर्क करना चाहिए. भाजपा पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि वह संसद में तीन तलाक विधेयक के लिए खड़े हैं, लेकिन महिला आरक्षण विधेयक पारित नहीं हुआ.

आने वाले लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों द्वारा एकजुट लड़ाई के लिए आग्रह करते हुए अब्दुल्लाह ने कहा कि चुनाव परिणाम के बाद प्रधानमंत्री का निर्णय लिया जा सकता है. उन्होंने कहा, “हमें लड़ना है और भाजपा को बेदखल करना है. इसके ख़िलाफ़ एक-एक कर लड़ने के लिए हमें एक साथ आना होगा.” उन्होंने आगे कहा की सब को अपने देश को मजबूत करने के लिए एक साथ लड़ना चाहिए और आशा व्यक्त की कि नई सरकार देश को आगे ले जाएगी .

फारूक अब्दुल्ला ने आगे कहा कि  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राष्ट्रीय नेता के रूप में खुद को साबित करने के लिए और समय दिया जाना चाहिए. अब्दुल्लाह ने कहा कि राहुल गांधी ने हाल में हुए तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस का नेतृत्व कर खुद को साबित किया है. उन्होंने कहा, “उन्हें पप्पू बुलाया गया, लेकिन तीन राज्यों के चुनावों में उन्होंने खुद को साबित किया, अब उन्हें पप्पू नहीं बुलाया जा सकता.”

पीटीआई इनपुट्स पर आधारित

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+