कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

सूरत अग्निकांडः कॉम्प्लेक्स में लगी भीषण आग, 20 छात्रों की मौत

टीवी चैनलों के विजुअल्स ने छात्रों को इमारत की तीसरी और चौथी मंजिल से कूदते हुए दिखाया.

गुजरात के सूरत में  बीते शुक्रवार शाम को एक कमर्शियल कॉम्प्लेकस में आग लगने से 20 छात्रों की मौत हो गई, जबकि कई छात्रों की हालत गंभीर होने की सूचना है. मामले को लेकर गुजरात पुलिस ने कोचिंग सेंटर के मालिक समेत तीन लोगों पर मुक़दमा दर्ज किया है.

नवभारत टाइम्स की ख़बर के अनुसार कॉमप्लेक्स में एक कोचिंग भी चलता था जिसमें बच्चे पढ़ रहे थे. आग की भयावह रूप को देखकर छात्र घबरा गए और जान बचाने के लिए तीसरी और चौथी मंजिल से छलांग लगा दी. इस बेहद खौफनाक मंजर का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रह है.

बदा दें कि तक्षशिला नामक यह कॉम्प्लेक्स मुंबई-अहमदाबाद हाइवे के पास सरथना में स्थित है. यहां कई दुकानें और कोचिंग सेंटर्स भी हैं. मिली सूचना के अनुसार  कॉम्प्लेक्स में कुल 50 छात्र और शिक्षक मौजूद थे. आग इतना भीषण था कि फायर बिग्रेड की गाड़ियों ने काफ़ी मशक्कत के बाद इस पर काबू पाया.

हालांकि स्थानीय लोगों का आरोप है कि दमकल की गाड़ियां आधे घंटे लेट से पहुंची. पहुंचने के बाद भी उनके पास आवश्यक उपकरण नहीं थे,  जिनके जरिये आग में फंसे बच्चों को बाहर निकाला जा सके. वीडियो में दिखाई दे रहा है कि जिस वक्त बच्चे इमारत से छलांग लगा रहे थे, उस वक्त दमकल सामने खड़ी थीं. लेकिन उनकी सीढ़ियां ऊपरी मंजिल तक नहीं पहुंच पाईं.

इस घटना को लेकर प्रशासन का कहना है कि ज्यादातर छात्रों की मौत घबराहट में बिल्डिंग से छलांग लगाने की वजह से हुई है. नवभारत टाइम्स के ख़बर के मुताबिक़ दमकल अधिकारियों ने बताया कि कई बच्चों को वहां से बचाकर अस्पताल पहुंचाया गया है.जानकारी के अनुसार, 4 छात्रों की मौत बिल्डिंग से कूदने की वजह से हुई है.

बताया जा रहा है कि आग बिल्डिंग में आने जाने के लिए बनाई गई सीढ़ियों के पास रखे ट्रांसफॉर्मर में लगी थी. आग लगने के बाद अंदर मौजूद छात्र उतरने के लिये नीचे पहुंचे, लेकिन आग की वजह से वह लौटकर चौथी मंजिल पर चले गए, जहां एक फाइबर का शेड था और अंदर जिम के लिए रखी गई रबर की चटाई और टायर के कारण आग ज्यादा फैली, जिससे बच्चे आग की चपेट में आ गए.

 गुजरात के सीएम कार्यालय द्वारा बयान जारी किया गया है. जिसमें सीएम विजय रूपाणी ने घटना के जांच के आदेश दिए हैं. साथ ही मृतक छात्रों के परिजनों को 4 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है.

मेडिकल इमरजेंसी से निपटने के लिए नई दिल्ली स्थित बर्न एंड टट्रॉमा सेंटर में विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम गठित की गई है. सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश कुमार मिश्रा ने म़तकों की संख्या में बढ़ोतरी की आशंका जताई है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+