कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

गुजरात: मारे गए CRPF जवानों के परिजनों को एक माह की सैलरी दान देने के सवाल पर भाग लिए भाजपा मंत्री

पत्रकार के सवाल का कोई जवाब दिए बिना ही विधायक एक ओर हो लिए

एक ओर जहां पूरा देश पुलवामा हमले में मारे गए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए हर संभव मदद कर रहा है तो वहीं केंद्र में सत्ताधारी दल भाजपा के अपने ही मंत्री इससे कन्नी काटते हुए देखे गए.
गुजरात के वन, आदिवासी विकास एवं पर्यटन मंत्री गणपत वसावा, जवानों के लिए अपनी विधायिकी की सैलरी कुर्बान करने के नाम पे सकते में आ गए.
ग़ौरतलब है कि कुछ रोज़ पहले गुजरात के ही राजकोट से कांग्रेस विधायक ललित वसोया ने इस हमले में मारे गए जवानों को अपनी आगामी एक माह की तनख्वाह डोनेट करने की घोषणा की थी. वसोया ने साथ ही अपनी पार्टी और भाजपा के नेताओं से भी ऐसी मदद को आगे आने को कहा था.
इसी बात को लेकर एक पत्रकार ने जैसे ही गणपत वसावा से उनकी सैलरी को CRPF राहत कोष में डोनेट करने के बारे में पूछा, वसावा सकते में आ गए. सवाल का कोई जवाब दिए बिना ही विधायक एक ओर को हो लिए.

बताते चले कि इस हमले के बाद, दो रोज़ पहले सूरत की एक जनसभा में वसावा ने “लोकसभा चुनाव रोक दो-पाकिस्तान को ठोक दो” और “जैसे को तैसा सबक सिखाने की बात की थी”.
सैनिको की मौत का निश्चित रूप से बदला लेने की बात करने वाले विधायक, सैनिको के लिए अपनी एक माह की तनख्वाह कुर्बान करने के नाम पर चुप्पी साध गए.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+