कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

हिंदू राष्ट्र की कल्पना क्या है? परसाई ने कहा- निरंतर संकीर्ण होता राष्ट्र धर्म

देवरस से मुलाक़ात- हरिशंकर परसाई का एक व्यंग्य

आदम – हिन्दू राष्ट्र की कल्पना क्या है ?

देवरस – देखो ,निरंतर संकीर्ण होते जाना राष्ट्र धर्म है. पहले हम जम्बू द्वीप के थे. यह पूरा एशिया था. फिर हम भारत खंड हुए और छोटे हुए

आदम – तो आगे दस सालो मे हमारी संकीर्णता का विकास कैसे होगा

देवरस -देखो अब हम आर्यवत होंगे. इस से दक्षिण के ये द्रविड़ अलग हो जाएंगे. फिर आर्यावर्त को भी छोटा करना होगा. ये बंगाली जो है न कम्युनिस्ट है. इन्हे हिन्दू राष्ट्र मे जगह नही मिलेगी. तो हम बनाएंगे उत्तराखंड. इस से पूर्वी भारत से भी हमे छूटी मिल जायेगी.

आदम -तब तो हिन्दीभाषी हि हिन्दू राष्ट्र मे रह जायेँगे.

देवरस – नहीं ,सारे हिन्दीभाषी भी हिन्दु राष्ट्र मे नही होंगे. हम द्विजराष्ट्र का नारा देंगे

देवरस से मुलाक़ात

न्यूज़सेंट्रल24x7 को योगदान दें और सत्ता में बैठे लोगों को जवाबदेह बनाने में हमारी मदद करें
You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+