कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

आतंकवाद सहित सभी मुद्दों पर भारत के साथ बातचीत के लिए तैयार : इमरान खान

खान ने कहा, ‘‘क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए बातचीत ही एकमात्र तरीका है.’’

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनका देश आतंकवाद सहित सभी मुद्दों पर भारत के साथ बातचीत के लिए तैयार है तथा क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए बातचीत ‘‘एकमात्र तरीका’’ है.

कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता करते हुए खान ने सदस्यों को 14 फरवरी को पुलवामा आतंकवादी हमले और उसके बाद दोनों देशों के संबंधों से जुड़े ताजा घटनाक्रम की जानकारी दी.

खान ने कहा, ‘‘क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए बातचीत ही एकमात्र तरीका है.’’
जियो न्यूज की खबर के अनुसार खान ने कैबिनेट सहयोगियों से कहा, ‘‘मैंने पुलवामा हमले की जांच करने और द्विपक्षीय मुद्दों पर बातचीत करने के लिए भारत को प्रस्ताव दिया था। पाकिस्तान आतंकवाद सहित सभी मुद्दों पर भारत के साथ बातचीत के लिए तैयार है.’’
भारत ने बृहस्पतिवार को पाकिस्तान से कहा कि बातचीत शुरू करने के पहले उसे आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ ठोस कदम उठाने होंगे.

सूत्रों ने कहा कि मौजूदा सुरक्षा स्थिति सहित 12-सूत्री एजेंडे पर बैठक में चर्चा की गई और विदेश तथा रक्षा मंत्रियों ने भारतीय ‘‘आक्रामकता’’ के बारे में कैबिनेट को जानकारी दी.

रिपोर्ट में खान के हवाले से कहा गया है कि उन्होंने ‘‘कल रात मोदी को फोन करने की कोशिश की.’’
इससे पहले, विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि प्रधानमंत्री खान अपने भारतीय समकक्ष मोदी से टेलीफोन पर बात करने के लिए तैयार हैं ताकि वह शांति की पेशकश कर सकें.

कुरैशी ने जियो न्यूज से कहा कि अगर भारत शांति को प्राथमिकता देता है तो पाकिस्तान शांति के लिए तैयार है.

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री इमरान खान नरेंद्र मोदी से टेलीफोन पर बातचीत करने के लिए तैयार हैं और शांति की पेशकश करने के लिए तैयार हैं. क्या मोदी तैयार हैं?’’
उन्होंने कहा, ‘‘हम हर स्थिति के लिए तैयार हैं. यदि वे शांति को तरजीह देते हैं, तो हम शांति के लिए तैयार हैं. यदि वे बातचीत को प्राथमिकता देते हैं, तो हम बातचीत के लिए तैयार हैं.’’
कुरैशी ने 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकी हमले के संबंध में भारत से डोजियर मिलने की भी पुष्टि की.

उन्होंने कहा, ‘‘हम डोजियर के आधार पर साथ बातचीत करते हैं। मैं बात करने के लिए तैयार हूं. आप आतंकवाद के बारे में बात करना चाहते हैं, मैं तैयार हूं. आप शांति के बारे में बात करना चाहते हैं, मैं तैयार हूं. आप इसे साझा चुनौती बनाना चाहते हैं, मैं हूं. मैं तैयार हूं.’

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+