कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

रिपोर्ट का खुलासा: पत्रकारों के लिए ख़तरनाक है भारत, दुनिया में है पांचवा स्थान

रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की रिपोर्ट के मुताबिक़ दुनिया भर में 2018 में अब तक 80 पत्रकारों की हत्या हुई है.

दुनिया भर में पत्रकारों की हत्या से जुड़ी एक रिपोर्ट सामने आई है. इसमें भारत का स्थान पांचवा है. यह रिपोर्ट “रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स” द्वारा पेश की गई है. इस रिपोर्ट के मुताबिक इस साल अब तक 80 पत्रकारों की हत्या हुई है. रिपोर्ट के अनुसार मारे गए 80 पत्रकारों में 63 पेशेवर पत्रकार थे.

जनसत्ता की एक ख़बर के मुताबिक़ रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की रिपोर्ट में बताया गया कि 2017 के मुकाबले 2018 में पत्रकारों की हत्या के ज़्यादा मामले सामने आए हैं. वहीं 60 पत्रकारों को बंधक बनाया गया और 3 पत्रकार लापता हैं. रिपोर्ट में बताया गया है कि जिन 80 पत्रकारों की इस साल हत्या हुई, उनमें से 49 मामले में सुनियोजित ढंग से पत्रकारों को मारा गया है. मारे गए पत्रकारों ने अपने रिपोर्टिंग से राजनीतिक, आर्थिक, धार्मिक और आपराधिक संगठनों में हलचल पैदा की थी. रिपोर्ट के मुताबिक़ 2018 में चीन में 60, इजिप्ट में 38, टर्की में 33, ईरान और सउदी अरब में 28 पत्रकारों को डिटेंड किया गया है.

गौरतलब है कि भारत के बारे में रिपोर्ट में दो घटनाओं का ज़िक्र देते हुए कहा गया है कि यहां पत्रकारों के लिए ख़तरा बना हुआ है. इनमें एक मामला बिहार का है जहां नविन निश्चल और विजय सिंह नामक दो पत्रकारों की ग्राम प्रधान ने हत्या करवा दी. दोनों पत्रकार दैनिक भास्कर के लिए रिपोर्टिंग करते थे. उनके परिवारों ने ही ग्राम प्रधान पर निश्चल और सिंह की हत्या का आरोप लगाया था. दूसरा मामला मध्यप्रदेश का है जहां संदीप शर्मा नामक एक पत्रकार खनन माफियाओं के निशाने पर थे. उनकी भी हत्या करवा दी गई.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+