कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

कश्मीरी छात्रों व नागरिकों के साथ एकजुट है पूरा देश, #IndiaStandsUnited के साथ मदद के लिए आगे आए कई लोग

कई शहरों से कश्मीरी लोगों को निकाले जाने की ख़बरों के बाद ट्विटर पर लोगों ने मुहिम शुरू की है.

पुलवामा हमले के बाद देश के अलग-अलग राज्यों में रह रहे कश्मीरी लोगों व छात्रों को शहर से बाहर करने की ख़बरें सामने आ रही हैं. ऐसे में सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने एक मुहिम शुरू की है, जिसमें आम लोग अपने घरों में कश्मीरी लोगों को रहने की जगह देकर देश की एकता को दिखा रहे हैं.

ट्विटर पर कुछ लोग #IndiaStandsUnited  के साथ कश्मीरी साथियों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. यहां ऐसे ही कुछ ट्वीट की श्रृंखला है.

पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट कर लिखा कि मैं कहना चाहता हूं कि किसी भी कश्मीरी छात्र को  अगर किसी भी तरीके से निशाना बनाया जा रहा है, तो मुझे कॉल करने के लिए स्वतंत्र महसूस करें. मेरा घर और दिल आपके लिए खुला है.

वहीं एक अन्य महिला पत्रकार स्तुति मिश्रा ने लिखा कि किसी की मदद के लिए मेरा घर खुला है. खासकर दिल्ली/एनसीआर में रहने वाली कश्मीरी महिला को लगता है कि उसे किसी के पास जाने की जरूरत है, तो कृपया मुझे संपर्क करें, मैं अपनी मां के साथ नोएडा में रहती हूं.

एक यूजर ने कहा कि मैं अहमदाबाद में रहती हूं. मेरा और मेरे कई दोस्तों के घर कश्मीरियों के लिए खुले हैं…

एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि अगर कोई  कश्मीरी  दिल्ली में दिक्कतों का सामना कर रहा है, तो मेरे साथ जुड़ें. मेरा घर कश्मीरियों के लिए खुला है. आप मेरे घर पर रह सकते हैं. मैं अपने घर पर 9-10 लोगों को रख सकती हूं.

एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने लिखा कि अगर आप कश्मीरी छात्र हैं और मॉब या संस्थानों से उत्पीड़न का सामना कर रहे हैं, तो कृपया मुझे संपर्क करें. मैं आपकी आवाज को आगे बढ़ाऊंगा.

ग़ौरतलब है कि जिस तरह से कश्मीरी छात्रों व लोगों को हॉस्टल और घरों से बाहर निकालने धमकी दी जा रही है, उससे कश्मीरी काफी डरे हुए हैं.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+