कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

पैलेट गन लगने से एक की आंख से तो दूसरे की गर्दन से खून निकल रहा था: BBC संवाददाता ने जम्मू-कश्मीर के सौरा में हुए प्रदर्शन का आंखों देखा हाल बताया

“नमाज़ के बाद वहां कश्मीर की आज़ादी के समर्थन में नारे लगने लगे और लोगों ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन शुरू कर दिया.”

धारा 370 में बदलाव होने के बाद से प्रशासन और केंद्र सरकार का दावा है कि जम्मू-कश्मीर में सबकुछ ठीक चल रहा है. राष्ट्रीय मीडिया भी ग्राउंड रिपोर्टिंग के जगह सरकारी की बातों में हामी भरती नज़र आई. लेकिन, बीबीसी हिंदी ने कुछ दिन पहले जम्मू-कश्मीर के सौरा में हुए बड़े विरोध प्रदर्शन का वीडियो जारी किया था.

अब एक बार फिर इस हाउस के संवाददाता ने बताया है कि प्रशासन के दावे के उलट जम्मू-कश्मीर में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है और घाटी में हालात सामान्य नहीं है. संवाददाता से बातचीत का ऑडियो क्लिप बीबीसी ने शेयर किया है जिसमें सौरा में हुए प्रदर्शन का विस्तृत जिक्र है.

ऑडियो में पत्रकार आमिर परिजादा ने घटना का आंखों देखा हाल बताया है कि जुमे की नमाज़ के बाद सौरा में कश्मीरियों का एक विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया. उन्होंने कहा कि शुक्रवार को वह सौरा में करीब 1 बजे पहुंचे, जहां लोग नमाज के लिए इकठ्ठा हो रहे थे. यहां ऐसी जगह है जहां महिला और पुरुष दोनों अलग-अलग ब्लॉक में नमाज़ पढ़ सकते हैं.

जुमे की नमाज़ के बाद सौरा में कश्मीरियों का एक विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया. बीबीसी के संवाददाता आमिर पीरज़ादा से जानिए आंखों देखा हाल.

BBC News हिन्दी ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶುಕ್ರವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 23, 2019

बीबीसी संवाददाता ने बताया, “नमाज के बाद वहां कश्मीर की आज़ादी के समर्थन में नारे लगने लगे और लोगों ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन शुरू कर दिया.” इस प्रदर्शन में सैकड़ों लोग शामिल हुए थे. इस दौरान जब सुरक्षाकर्मी एक गली में प्रदर्शनकारियों के करीब पहुंचने की कोशिश करने लगे तो भीड़ भी पुलिस की तरफ भागने लगी.

आमिर परिजादा ने बताया, “यहां की गलियों में रह रहे लोगों के बीच आपसी सिग्नल है. यानी कि जब पुलिस और लोगों का आमना-सामना होता है तो सिग्नल दिया जाता है और घरों में रह रहे लोग बाहर निकल आते हैं और उस संघर्ष में एकजुट हो जाते हैं. शुक्रवार को भी ऐसा ही कुछ हुआ.”

उन्होंने कहा, “इस सिग्नल के बाद पुलिस और सीआरपीएफ के साथ लोगों का संघर्ष शुरू हो गया और प्रदर्शनकारियों की तरफ से पत्थरबाजी शुरू हो गई. लोग अपने घरों से बाहर निकले और उस प्रदर्शन में हिस्सा लेने लगे. इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के उपर आंसू गोले छोड़े तो प्रदर्शनकारियों ने ईंट और पत्थर फेंकें.

संवाददाता के अनुसार, “इस घटनाक्रम में पैलेट गन का भी इस्तेमाल किया गया.” उन्होंने कहा, “मैंने अपनी आंखों से देखा कि एक की आंख से खून निकल रहा था तो दूसरे की गर्दन से खून निकल रहा था. यह संघर्ष बहुत ही हिंसक था और यह करीब शाम चार बजे तक चला. हालांकि, अभी तक हमें पक्के तौर पर घायलों के बारे में जानकारी नहीं है.”

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+