कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

तीन तलाक पर मोदी सरकार को नीतीश का ठेंगा, JDU बोली- बहुत जल्दबाजी में है केंद्र सरकार

राज्यसभा में जदयू सांसदों ने तीन तलाक विधेयक के ख़िलाफ़ वोट करने का फ़ैसला किया है.

भारतीय जनता पार्टी अपने गठबंधन सहयोगी दलों से भी संसद में घिर गई है. राफ़ेल पर शिवसेना के हमले के बाद अब तीन तलाक बिल पर बिहार के सत्ताधारी दल जदयू ने भाजपा से अलग रूख अख़्तियार कर लिया है. पार्टी ने आज राज्यसभा में तीन तलाक के पक्ष में वोट नहीं करने का फ़ैसला किया है.

न्यूज़18 की ख़बर के मुताबिक जदयू का कहना है कि इस मु्ददे को लेकर भाजपा बहुत जल्दबाजी में है. एनडीटीवी से बातचीत में जदयू के वरिष्ठ नेता वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा है कि सरकार को तीन तलाक पर कानून बनाने से पहले अच्छी तरह से विचार कर लेना चाहिए. उन्होंने कहा कि राज्यसभा में जदयू के सांसद इस क़ानून के ख़िलाफ़ मतदान करेंगे.

इस पर भाजपा से राज्यसभा सांसद सी.पी.ठाकुर का कहना है कि कुछ राजनीतिक दलों को लगता है कि अगर वे तीन तलाक कानून का समर्थन करेंगे तो उनके वोट बैंक को नुकसान पहुंचेगा. जदयू का कहना है कि उसे तीन तलाक कानून में पुरुषों को तीन साल की जेल की सजा से आपत्ति है.

बता दें कि कांग्रेस सहित कई विपक्षी दल तीन तलाक क़ानून का विरोध कर रहे हैं. ये सभी दल तीन तलाक से जुड़े बिल को संसद की सेलेक्ट कमिटी को भेजने की मांग कर रहे हैं जिससे इस कानून में सुधार किया जा सके. लोकसभा में इस बिल के पास होते समय कांग्रेस और एआईडीएमके ने सदन से वॉक आउट कर लिया था.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+