कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

कठुआ रेप केस के दोषियों को मिली सजा, BJP नेताओं ने आरोपियों के समर्थन में निकाली थी रैली

भारतीय जनता पार्टी के दो मंत्रियों चंद्र प्रकाश गंगा और लाल सिंह ने रैली निकाली थी.

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की मासूम के साथ बलात्कार और हत्या के मामले में पठानकोट के स्पेशल कोर्ट ने 6 आरोपियों को दोषी करार दिया है और तीन दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है. इस केस में सात आरोपी थे, एक नाबालिग आरोपी को कोर्ट ने बरी किया है.

द हिन्दू के मुताबिक वकीलों के मुताबिक मुख्य आरोपियों में सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी सांझी राम, स्पेशल पुलिस ऑफिसर दीपक खजुरिया और एक आम नागरिक प्रवेश को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. जबकि, एसपीओ सुरेन्द्र वर्मा, हेड काउंस्टेबल तिलक राज और आनंद दत्ता को पांच साल की कैद की सजा सुनाई गई है.

आठ वर्षीय मृतका के वकील ने मीडिया को बताया कि आरोपियों को आईपीसी की धारा 366 (अपहरण), धारा 302 (हत्या), धारा 336 (बलात्कार) और धारा 34 के तहत दोषी पाया गया है. सबूत मिटाने के जुर्म में तीन पुलिसकर्मियों को सजा सुनाई गई है.

बता दें कि पिछले साल जनवरी महीने में कठुआ के रसाना इलाके से अपहरण कर बकरवाल समुदाय की एक आठ वर्षीय बच्ची का अपहरण कर लिया था. गांव की एक मंदिर में उसके साथ चार दिन दुष्कर्म किया गया और फिर बेरमही से लाठी से पीट-पीट कर उसकी हत्या कर दी गयी. पिछले साल 17 जनवरी को इस बच्ची की लाश एक जंगल में मिली थी. इस मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ से हटाकर पठानकोट स्पेशल कोर्ट भेज दिया था.

भाजपा नेताओं ने आरोपियों के समर्थन में निकाली थी रैली

कठुआ रेप केस के आरोपियों के पक्ष में जम्मू-कश्मीर सरकार में भारतीय जनता पार्टी के दो मंत्रियों चंद्र प्रकाश गंगा और लाल सिंह ने रैली निकाली थी. बिजनेस स्टैंडर्ड की ख़बर के मुताबिक इसके बाद विपक्ष के दबाव के कारण इन नेताओं पर भाजपा ने कार्रवाई की थी. दोनों नेताओं को पार्टी से निकाल दिया गया था.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+