कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

जनता ने बहुरूपिया से बहुत धोखा खा लिया, अब देश को संविधान के साथ चलाने वाला शुद्ध PM चाहिए- मायावती

'पीएम मोदी की घोर वादा खिलाफी के कारण भारी जनविरोध को देखते हुए संघी स्वंय सेवक झोला लेकर चुनाव में कही भी मेहनत करते नजर नही आ रहे है, जिससे मोदी के पसीने छूट रहे है.'

बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार हमला करते हुये कहा कि उनकी नैया डूब रही है और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी उनका साथ छोड़ दिया है.

मायावती ने आज सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए लिखा, ‘पीएम श्री नरेंद्र मोदी की सरकार की नैया डूब रही है, और इसका जीता जागता प्रमाण यह है कि (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ) आरएसएस ने भी इनका साथ छोड़ दिया है. इनकी घोर वादा खिलाफी के कारण भारी जनविरोध को देखते हुये संघी स्वंय सेवक झोला लेकर चुनाव में कही भी मेहनत करते नजर नही आ रहे है, जिससे श्री मोदी के पसीने छूट रहे है.’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘जनता को बरगलाने के लिये देश ने अब तक कई नेताओं को सेवक, मुख्य सेवक, चायवाला व चौकीदार आदि के रूप में देखा है. अब देश को संविधान की सही और कल्याणकारी मंशा के साथ चलाने वाला शुध्द पीएम चाहिये. जनता ने ऐसे बहुरूपियों से बहुत धोखा खा लिया है और अब आगे धोखा खाने वाली नही है. ऐसा साफ लगता है.’

मायावती ने कहा, ‘रोड शो व जगह जगह पूजा पाठ एक नया चुनावी फैशन बन गया है जिस पर भारी खर्च किया जाता है. आयोग द्वारा उस खर्चे को प्रत्याशी के खर्च में शामिल करना चाहिये और यदि किसी पार्टी द्वारा उम्मीदवार के समर्थन में रोड शो आदि किया जाता है तो उसे भी पार्टी के खर्चे में शामिल किया जाना चाहियें.’

बसपा प्रमुख ने टिवट में कहा, ‘साथ ही किसी भी पार्टी के उम्मीदवार के चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगाने के दौरान यदि वह पूजा पाठ आदि करता है और उसे मीडिया में बड़े पैमाने पर प्रचारित किया जाता है तो उस पर भी रोक लगनी चाहिये. आयोग इस पर भी कुछ जरूरी कदम उठाये.’

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+