कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

#Metoo: कलाकार रियास कोमू पर लगा यौन शोषण का आरोप, मांगी माफ़ी

इंस्टाग्राम में एक पोस्ट के ज़रिये लगाया था पीड़ित महीला ने यह आरोप

कला जगत के प्रमुख व्यक्तिकलाकार और कोच्चि-मुज़िरिस बिएनेल के सह-संस्थापक और सचिव “रियास कोमू”  के ऊपर यौन शोषण का आरोप लगाया गया है।

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार 16 अक्टूबर को एक गुमनाम रूप से संचालित इंस्टाग्राम अकाउंट सीन एंड हर्ड‘ पर एक पोस्ट के ज़रिये कला जगत की एक पेशेवर महिला ने उन पर आरोप लगाया था। उस पोस्ट में महिला ने ख़ुद को दीवार पर धकेले जाने और कलाकार द्वारा ज़बरदस्ती चूमे जाने का वर्णन किया है।

उन्होंने लिखा, “उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया जबकि मैं यह भी समझने के लिए संघर्ष कर रही थी कि ये क्या हो रहा है। मैं इतना डर गई थी कि मैंने जो हो रहा था उसे होने दिया। यह बिलकुल अचानक ही शुरू हुआ और अचानक ही बंद हो गया। फिर वह वहां से चला गया। लेकिनवो यहाँ ही नहीं रुका। कोच्चि में रहने के दौरान उसने फिर से मेरे साथ बदसुलूकी की थी।”

इससे पहले 37 वर्षीय पीड़ित महिला ने इस घटना का एक छोटा संस्करण अक्टूबर को उसी अकाउंट से पोस्ट किया था लेकिन उसमें कोमु के नाम का ज़िक्र नहीं किया था। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वह उस समय कमज़ोर महसूस कर रही थीं। लेकिनदूसरी महिलाओं द्वारा सार्वजनिक रूप से अपने अपराधियों का नाम लिखने से उन्हें हिम्मत मिली।

गौरतलब है कि यह घटना कथित तौर पर अक्टूबर 2015 में हुई थी जब महिला इस 47 वर्षीय कलाकार के साथ एक परियोजना पर चर्चा करने के लिए कोच्चि गई थीं।

गुरुवार को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर आरोपों का जवाब देते हुए कोमू ने लिखा, “मैं बहुत परेशान हूँ कि इस घटना को इस तरीक़े से समझा और प्रस्तुत किया गया है। हालांकिअगर किसी व्यक्ति ने मेरे द्वारा चोट पहुंचाए जाने की बात की है तो मैं यहां उनसे माफ़ी मांगना चाहता हूँ। और मैं उनसे वार्तालाप की संभावना के लिए तैयार हूँ।”

उन्होंने कहा, “सामाजिक और राजनीतिक कारणों के प्रति प्रतिबद्ध कलाकार होने के नाते मैं #Me_Too आंदोलन का समर्थन करता हूँ जिसने सत्ता की मौजूदा संरचनाओं को बाधित किया है और दबाई गई आवाज़ों का प्रतिनिधित्व करने के तरीक़ों का निर्माण किया है।”

महिला ने कहा है, “यह एक बोझ था जो मैंने अपने साथ बहुत लंबे समय तक ढोया है। वो मेरे चारों ओर होता था। यह धीरे-धीरे मुझे नष्ट कर रहा था।  मुझे लगता है कि मैंने जितना बर्दाश्त किया पर्याप्त था। यह सिर्फ़ मेरा बोझ नहीं हो सकता है। अब यह उस समुदाय का बोझ है और वे सभी लोग जो उसे सक्षम करते हैंजो उसका समर्थन करते हैंअब यह सुनिश्चित करने के लिए ज़िम्मेदार हैं कि वे अपनी शक्ति में जो कुछ भी करते हैं तो वह अपने कार्यों के लिए उत्तरदायी होंगे। “

यह बताते हुए कि वह पहले बात करने से डर रही थीं। महिला ने कहा, “जो हुआ था उसके बारे में किसी से बात नहीं करना चाहती थी क्योंकि मुझे चिंता थी कि वह मेरे करियर को ख़त्म कर देगा।”

इंडियन एक्सप्रेस के एक संदेश का जवाब देते हुए केएमबी के अध्यक्ष और सह-संस्थापकबोस कृष्णामाचारी ने कहा कि केएमबी की एक बैठक शुक्रवार को होगी और इस मामले में एक आधिकारिक बयान जारी किया जाएगा।

12 दिसंबर को शुरू होने वाली बिएनेल के आगामी संस्करण की क्यूरेटर अनीता दुबे ने कहा, “हम आंतरिक रूप से इस मामले पर चर्चा कर रहे हैं और एक बयान जारी करेंगे।”

डॉ भाउ दाजी लाड मुंबई सिटी संग्रहालय के केएमबी सलाहकार और प्रबंध निदेशक तस्नीम ज़करिया मेहता ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “बिएननेल एक बयान जारी करेगा।”

#Me_too अभियान पर उन्होंने कहा, “मुझे ख़ुशी है कि यह हो रहा है। एक “मेल पावर प्ले” हमेशा होता आया है। महिलाओं के लिए बाहर निकलना और ऐसे बयान देना बहुत मुश्किल हैइसलिए उन पर एक निश्चित विश्वास ज़रूर दिखाया जाना चाहिए।”

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+