कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

नसीरुद्दीन शाह, कोंकणा सेन शर्मा समेत 600 से ज़्यादा थियेटर कलाकारों की अपील-नफ़रत फैलाने वाली BJP और उसके सहयोगियों को मत दें वोट

कलाकारों ने बयान में कहा कि "इस चुनाव में देश बचाएं, आज हमारे भारत की विचारधारा ख़तरे में है. संगीत से लेकर हास्य-व्यंग्य तक पर ख़तरा मंडराने लगा है."

देश के 600 से ज्यादा थियेटर कलाकारों ने आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और उसके सहयोगी दलों को वोट ना देने की अपील की है. मोदी सरकार के पांच साल के कार्यकाल में देश के भीतर फैली असहिष्णुता, दलितों पर अत्याचार, नफ़रत की राजनीति के ख़िलाफ़ वोट देने की अपील कलाकारों ने अंग्रेजी, हिन्दी, तमिल, बांग्ला, मराठी जैसी 12 भाषाओं में जारी साझा बयान के माध्यम से की है.

आर्टिस्ट यूनाइट इंडिया के बैनर तले कलाकारों ने साझा बयान जारी कर कहा है, “ब्रिटिश राज के समय से ही भारतीय थियेटर ने विविधता की रक्षा के लिए अपना योगदान दिया है. आजादी के समय भी हम सामाजिक समानता के पक्ष में खड़े हुए थे. हमने पितृसत्ता, ब्राह्मणवाद और जातिगत भेदभाव के ख़िलाफ़ भी आवाज़ उठाई है. “

आगे कलाकारों ने लिखा है, “आज हमारे भारत की विचारधारा ख़तरे में है. आज संगीत से लेकर हास्य-व्यंग्य तक पर ख़तरा मंडराने लगा है. हमारा संविधान भी मुसीबत में है. देश के संस्थानों पर भी जुल्म हो रहे हैं. सवाल पूछने वालों को अब देश विरोधी बताया जा रहा है. नफ़रत की बीज हमारे खानपान, प्रार्थना और त्यौहार तक में बो दी गई है. हमें इस नफ़रत को फ़ैलने से रोकना होगा.”

इसके बाद कलाकारों ने लिखा है, “आने वाला चुनाव निश्चित रूप से आज़ाद भारत का सबसे महत्वपूर्ण चुनाव है. एक लोकतंत्र में उसके वंचितों और पिछड़े वर्ग की गूंज सुनाई देनी चाहिए. सवाल पूछने और बहस की संस्कृति के बिना लोकतंत्र का कोई मतलब नहीं रह जाता. विपक्ष भी लोकतंत्र का अहम हिस्सा है. आज की मौजूदा सरकार इन सब पर आघात कर रही है. पांच साल पहले जो भाजपा विकास का वादा करके आई थी, वह आज हिन्दुत्व के गुंडों के बल पर नफ़रत और हिंसा को बढ़ावा दे रही है. जो व्यक्ति विकास पुरुष की छवि लेकर आया था, उसने अपनी नीतियों से लाखों लोगों की जिंदगियां बर्बाद कर दी है. कालेधन को वापस लाने की बात कही गई थी, लेकिन अब भ्रष्टाचार करने वाले लोग देश छोड़कर फ़रार हो जा रहे हैं.”

इसके बाद कलाकारों ने अपने बयान में कहा है, “हम देश की जनता से अपील करते हैं कि देश की धर्म निरपेक्षता और संविधान जैसे तत्वों को बचाने के लिए साथ आएं. हम देश से अपील करते हैं कि इस चुनाव में नफ़रत और अंधेरे के ख़िलाफ़ वोट करके देश  में समानता, सामाजिक न्याय और प्रेम की भावना लाने के लिए वोट करें.”

कलाकारों की अपील है, “कट्टरता और नफ़रत के ख़िलाफ़ वोट करें. भारतीय जनता पार्टी और उसके सहयोगी दलों के ख़िलाफ़ वोट करें. देश के कमजोर तबके के लोगों को ताकतवर बनाने, आजादी को बचाने, पर्यावरण की रक्षा और वैज्ञानिक सोच को कायम करने के लिए वोट करें. एक धर्म निरपेक्ष और लोकतांत्रिक भारत की पहचान सुरक्षित रखने के लिए वोट करें. इस चुनाव में सोच समझ कर वोट करें.”

इसे भी पढ़ें- 150 से ज़्यादा वैज्ञानिकों की अपील- लोकतांत्रिक अधिकारों को बचाने के लिए उन लोगों को वोट न दें जो लोगों की हत्या करते हैं

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+