कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

मध्यप्रदेश: आचार संहिता के उल्लंघन में BJP विधायक दिलीप सिंह परिहार गिरफ़्तार

बीते 23 मार्च को विधायक अनिल परिहार और निगम प्रमुख जैन ने नीमच में बिना इज़ाज़त एक बाइक रैली का आयोजन कर जुलूस निकाला था.

मध्यप्रदेश के नीमच से भाजपा विधायक दिलीप सिंह परिहार और नगर पालिक अध्यक्ष राकेश पप्पू जैन को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में गिरफ़्तार कर लिया गया है. उन्होंने बिना अनुमति के बाइक रैली और जुलूस का आयोजन किया था.

नीमच अदालत ने 29 मार्च को नीमच विधानसभा से भाजपा विधायक दिलीप सिंह परिहार और नीमच नगर पालिका निगम के अध्यक्ष राकेश पप्पू जैन को एमसीसी के उल्लंघन में दोषी पाया और उनकी जमानत रद्द कर दी. अदालत के इस फैसले के बाद उन्हें 5 अप्रैल तक जेल में रखा जाएगा.

नेशनल हेराल्ड के मुताबिक, आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद से यह पहला मौका है, जब मध्य प्रदेश में इसके उल्लंघन के मामले में एक विधायक को जेल भेजा गया है.

दरअसल, मंदसौर संसदीय सीट से सांसद सुधीर गुप्ता को एक बार फिर से उम्मीदवार बनाने की घोषणा की गई. जिसके बाद 23 मार्च को विधायक अनिल परिहार और निगम प्रमुख जैन ने नीमच में बिना इज़ाज़त एक बाइक रैली का आयोजन कर जुलूस निकाला. इसके बाद आचार संहित उल्लंघन के मामले में उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया.

नेशनल हेराल्ड के मुताबिक, ज़िला अभियोजन अधिकारी आरआर चौधरी ने कहा कि नीमच के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट नीरज मालवीय की अदालत ने परिहार और जैन दोनों को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत दोषी पाया और उनकी जमानत रद्द करते हुए उन्हें जेल भेज दिया.

वहीं, इस मामले में परिहार और जैन के अलावा आरोपी भाजपा नेता संतोष चोपड़ा, जीतू तलरेजा, और आयुष कोठारी को जमानत दे दी गई.

ग़ौरतलब है कि विधायक अनिल परिहार द्वार एमएलसी के उल्लंघन का यह पहला मामला नहीं है. दिसंबर 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान भी परिहार पर कई बार मॉडल कोड के उल्लंघन का आरोप लगाया गया था. इस पर चुनाव आयोग ने उन्हें चेतावनी भी दी थी.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+