कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

मुंबई के कार्यक्रम में सरकार की आलोचना करने पर अभिनेता अमोल पालेकर का भाषण रोका गया

अमोल पालेकर ने इस तरह बोलने की आज़ादी पर पाबंदी लगाने को लेकर चिंता ज़ाहिर की है.

मुम्बई में आयोजित नेशनल गैलरी ऑफ मॉर्डन आर्ट (एजीएएम) में एक प्रदर्शनी के दौरान जाने-माने फ़िल्म निर्माता-निर्देशक और अभिनेता अमोल पालेकर का भाषण बीच में ही रोक दिया गया. कलाकार प्रभाकर बर्वे की याद में इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. इस वाकये के दौरान पूर्व अभिनेता सरकारी सेंसरशिप के ख़िलाफ़ बोल रहे थे. उन्होंने इस तरह से बोलने की आज़ादी पर लगाई गई पाबंदी को लेकर चिंता ज़ाहिर की.

एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक अमोल पालेकर, ‘इनसाइड द इम्पटी बॉक्स’ टॉपिक पर बोल रहे थे. इसी दौरान जब उन्होंने संस्कृति मंत्रालय के खिलाफ कुछ बातें कहना शुरू ही किया कि उन्हें रोक दिया गया. अमोल पालेकर ने एनजीएमए के मुंबई और बैंगलोर केंद्रों की एडवाइजरी समिति को कथित तौर पर खत्म करने के लिए संस्कृति मंत्रालय की आलोचना की थी.

इस दौरान मौजूद वहां मॉडरेट कर रहीं एक महिला ने अमोल पालेकर को रोक दिया और कार्यक्रम से जुड़ी बातों के बारे में कहने के लिए कहा. मालूम हो कि पिछले साल अक्टूबर महीने तक एनजीएमए की एक सलाहकार कमेटी थी, जिसमें स्थानीय कलाकारों का प्रतिनिधित्व होता था. इसी के बारे में अमोल पालेकर ने जब कार्यक्रम में मुद्दा उठाया कि इस कमेटी को अब सीधे संस्कृति मंत्रालय कंट्रोल रह रही है तो उन्हें रोक दिया गया.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+