कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

भाजपा नेहरू की मूर्ति हटा दें पर उन्हें लोगों के दिलों से नहीं हटा पाएंगे – कांग्रेस

इलाहाबाद में सड़क चौड़ाई परियोजना के नाम पर चौराहे से नेहरू की मूर्ति को हटाया दिया गया।

शुक्रवार को कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर आरोप लगाया कि वे देश के पहले प्रधानमंत्री की यादों को हटाने की कोशिश कर रहे हैं। इलाहाबाद में सड़क चौड़ाई परियोजना के लिए चौराहे से नेहरू की मूर्ति को हटाया दिया गया। हालांकि इलाहाबाद विकास प्राधिकरण ने कहा कि मूर्ति सड़क के पास एक पार्क में रखा गया था।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस सम्बन्ध में कहा कि भाजपा सरकार स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े नेहरू की यादों को दूर करने की साजिश कर रही है। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद नेहरू के साथ कांग्रेस का कार्यस्थल भी रहा है। वहीं से स्वतंत्रता मार्च शुरु किया गया था।

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि मोदी और योगी जवाहरलाल नेहरू, महात्मा गांधी और सरदार वल्लभभाई पटेल की यादों को दूषित करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “नेहरू की मूर्ति को आनंद भवन के बाहर से हटाकर नेहरू जी को लोगों के दिलों से नहीं हटा पाएंगें। भारत के लोगों के पास बड़ा दिल है और वे मोदी और योगी को सबक सिखाएंगे।”

पार्टी नेता अजय माकन ने कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण था कि राष्ट्रीय नेताओं की मूर्तियों को हटा दिया जा रहा है। नेहरू न सिर्फ कांग्रेस के नेता थे बल्कि वे देश के प्रथम प्रधानमंत्री भी थे। उन्हें हर राजनीतिक दल और सभी नागरिकों का सम्मान मिला है।”

माकन ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के 1977 के भाषण के उस भाषण को याद दिलाया जिसे हाल ही में भाजपा नेताओं द्वारा बड़े पैमाने पर प्रचार किया गया था| इस भाषण में उन्होंने बतौर विदेश मंत्री जवाहरलाल नेहरु के तस्वीर को वापस लगवाया जिसे उनके कार्यालय कक्ष से निकलवा दिया गया था| माकन ने कहा, “इसलिए मैं उन्हें फिर से याद दिलाना चाहता हूं कि नेहरू एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे जो देश की आजादी के लिए लड़े थे और विभिन्न जेलों में 10-11 साल के लिए कैद किए गए थे।”

(पीटीआई इनपुट्स की मदद से)

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+