कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

वामदलों सहित अन्य विपक्षी दलों ने शपथ ग्रहण से बनाई दूरी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने पहले ही शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने से इंकार कर दिया था.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में बृहस्पतिवार को नवगठित मंत्रिपरिषद के शपथ ग्रहण समारोह में वाम दलों के अलावा बसपा, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और राजद जैसे प्रमुख विपक्षी दलों ने दूरी बना कर रखी.

राष्ट्रपति भवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में माकपा और भाकपा के नेता नदारद रहे. वहीं बसपा, टीएमसी और राजद का भी कोई वरिष्ठ नेता शपथ ग्रहण समरोह में नहीं दिखा. माकपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पार्टी महासचिव सीताराम येचुरी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुये. भाकपा के राज्यसभा सदस्य और पार्टी के वरिष्ठ नेता डी राजा ने बताया कि उन्हें शपथ ग्रहण समारोह का आमंत्रण मिला था लेकिन वह शामिल नहीं हुये.

समारोह में शिरकत करने वाले विपक्ष के प्रमुख नेताओं में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव शामिल थे. इनके अलावा गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों में आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं जद एस नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी शामिल थे.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने पहले ही शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने से इंकार कर दिया था. उनके फैसले के बाद पार्टी के किसी नेता ने समारोह में शिरकत नहीं की. इसी प्रकार बसपा और राजद के भी वरिष्ठ नेता शपथ ग्रहण समारोह से दूर रहे. बसपा और राजद के सूत्रों ने अपनी पार्टी के किसी नेता के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की पुष्टि नहीं की.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+