कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

मीडिया संगठनों ने क्लिक बैट शीर्षक से संसद में ओवैसी की प्रतिक्रिया को दिया सांप्रदायिक रंग

ऑल्ट न्यूज़ की जांच.

18 जून को, AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने 17वीं लोकसभा में हैदराबाद निर्वाचन क्षेत्र से सांसद के रूप में शपथ ली। जब उनका नाम शपथ ग्रहण के लिए पुकारा गया, तो वहां पर मौजूद सांसदों ने ‘भारत माता की जय’, ‘जय श्री राम’ और ‘वंदे मातरम’ के नारे लगाना शुरू कर दिया। अपने शपथ के अंत में ओवैसी ने प्रतिक्रिया के रूप में ‘जय भीम’,’जय मीम’,’तकबीर’, ‘अल्लाह-हू-अकबर’ और ‘जय हिन्द’ का नारा लगाया। इस घटना का वीडियो आप नीचे देख सकते हैं:

कई मीडिया संगठनों ने इस शपथ ग्रहण समारोह की खबर की थी। हालांकि, उनके द्वारा प्रकाशित लेखों का शीर्षक भ्रामक और आकर्षक लिखा गया था। इन लेखों में ओवैसी द्वारा प्रतिक्रिया में लगाए गए नारों का समावेश किया गया था, लेकिन शीर्षक में केवल ‘जय श्री राम’ और ‘अल्लाह-हू-अकबर’ को ही रखा गया था।

ANI

“ओवैसी ने जवाब में ‘अल्लाह-हू-अकबर’ कहा जब सांसदों ने लोकसभा में ‘जय श्री राम’ का नारा लगाया”-(अनुवाद), यह शीर्षक ANI के लेख का है।

संयोग से ANI के ट्वीट में इस घटना के बारे में सही लिखा था।

बिज़नेस स्टैंडर्ड

बिज़नेस स्टैंडर्ड के लेख का शीर्षक, पहले प्रकाशित किये गए ANI के लेख के समान ही है।

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया का शीर्षक भी ANI से मिलता जुलता ही है,”ओवैसी ने जवाब में ‘अल्लाह-हू-अकबर’ कहा जब सांसदों ने लोकसभा में ‘जय श्री राम’ का नारा लगाया”-(अनुवाद) ।

इस मीडिया संगठन ने बाद में अपने लेख को अपडेट किया और शीर्षक में लिखा,“असदुद्दीन ओवैसी ने शपथ ग्रहण में लोकसभा में लगे जय श्री राम के नारों पर प्रतिक्रिया दी “-(अनुवाद)।

द इकोनॉमिक टाइम्स

द इकोनॉमिक टाइम्स ने शपथ ग्रहण समारोह का एक वीडियो अपलोड किया था, जिसका शीर्षक,“असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा में लगे ‘जय श्री राम ‘के नारों का प्रत्युत्तर अल्लाह-हू-अकबर से दिया” -(अनुवाद) था।

द इकोनॉमिक टाइम्स के द्वारा किये गए ट्वीट में हालांकि, सभी नारों को देखा जा सकता है।

इंडिया टुडे

“असदुद्दीन ओवैसी ने कहा ‘अल्लाह-हू-अकबर’,जब सांसदों ने लोकसभा में ‘जय श्री राम’ का नारा लगाया”-(अनुवाद) इस शीर्षक को आप इंडिया टुडे के लेख में पढ़ सकते हैं।

आज तक

इंडिया टुडे ग्रुप के ही ग्रुप के आज तक ने अपने हिंदी लेख में भ्रामक शीर्षक का इस्तेमाल किया है, जिसके मुताबिक,“शपथ लेते वक्त लगे जय श्रीराम के नारे तो पलटकर ओवैसी बोले- अल्लाह-हू-अकबर”।

जनसत्ता

इंडियन एक्सप्रेस का हिंदी संस्करण जनसत्ता ने भी भ्रामक शीर्षक का इस्तेमाल किया था, जिसके मुताबिक,“शपथ ले रहे थे ओवैसी, भाजपाई लगाने लगे जय श्री राम के नारे, AIMIM नेता ने कहा- अल्‍लाह-हो-अकबर”।

DNA

“देखिये:असदुद्दीन ओवैसी ने जवाबी तौर पर अल्लाह-हू-अकबर कहा जब लोकसभा में सांसदों ‘जय श्री राम’ और ‘वंदे मातरम’ के नारे लगाए”-(अनुवाद) शीर्षक को DNA के लेख में आप पढ़ सकते हैं।

IANS

IANS ने भी शपथ ग्रहण समारोह के बारे में भ्रामक ट्वीट किया।

ओवैसी ने शपथ ग्रहण समारोह में कई नारों का उच्चारण किया था मगर AIMIM के अध्यक्ष की प्रतिक्रिया के एक ही हिस्से को प्रस्तुत करके गलत तरीके से इसे धार्मिक रूप देने की कोशिश की गई। कई प्रकाशित लेखों को न्यूज़ एजेंसी से लिया गया था। इस तरह मीडिया संगठनों के लेख में भ्रामक शीर्षकों का इस्तेमाल किया गया था, जबकि सबूत के तौर पर वीडियो पेश किया गया था, जिसमें ओवैसी को ‘जय भीम’, ‘जय हिन्द’ के साथ अल्लाह-हू-अकबर का नारा लगाते हुए सुना जा सकता है।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+