कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों के लिए आज़ादी क्यों नहीं?: पी. चिदंबरम ने नेताओं की गिरफ़्तारियों पर उठाए सवाल

"आख़िर क्यों अलगावादियों और उग्रवादियों से लड़ने वाले नेताओं को घर में क़ैद कर दिया गया है?"

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने स्वतंत्रता दिवस के दिन जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक नेताओं की गिरफ्तारियों को लेकर चिंता व्यक्त की है. उन्होंने सवाल किया कि आख़िर क्यों जम्मू-कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को आज़ादी से वंचित रखा गया है.

एक ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, “आख़िर 6 अगस्त से ही क्यों जम्मू-कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को आज़ादी से वंचित रखा गया है. क्यों दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को एक आभासी कालकोठरी की सज़ा दी गई है और एक को घर के अंदर ही गिरफ़्तार कर रखा गया है?”

चिदंबरम ने ट्वीट में आगे सवाल किया कि, “आख़िर क्यों अलगावादियों और उग्रवादियों से लड़ने वाले नेताओं को घर में क़ैद कर दिया गया है?”

बता दें कि धारा 370 हटाने के बाद मोदी सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला को गिरफ़्तार कर रखा है. साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की मानें तो उन्हें घर के अंदर ही क़ैद कर दिया गया है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+