कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

इंडोनेशिया में भूकंप और सुनामी के कहर से 832 लोगों की मौत

शुक्रवार को 7.5 तीव्रता के भूकंप की वजह से सुनामी ने शहर को अपनी चपेट में ले लिया।

अभी हाल ही में इंडोनेशिया प्राकृतिक आपदा की चपेट में है। बीते शुक्रवार सुलावेसी द्वीप में आए तेज़ भूकंप के झटकों के कारण वहां सुनामी ने विकराल रूप ले लिया था। न्यूज एजेंसी एएफपी द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक सुनामी की चपेट में आकर 832 लोगों की मौत की पुष्टि की जा चुकी है।

सबसे ज़्यादा नागरिक क्षति पालू प्रांत में हुई है जहां अब तक 821 लोगों के मरने की खबर मिली है। मृतकों में 11 लोग डोंगगाला के निवासी भी हैं। आपदा प्रबंधन एजेंसी के हालिया बयान के मुताबिक वहां कुछ विदेशी नागरिक भी फंसे हुए हैं जिनमें एक फ्रांस, एक साउथ कोरिया और कुछ दूसरे देशों से हैं।

राष्ट्रीय बचाव एजेंसी के प्रमुख मोहम्मद स्युगी ने एजेंसी को बताया, “आपदा के बाद हमें मलबे को साफ करने के लिए भारी मशीनरी की सख्त़ ज़रूरत है। कल हम रात होटल रोआ-रोआ से एक महिला को जीवित निकालने में कामयाब रहे। हमारे पास ज़मीन पर काम करने के लिए कर्मचारी हैं, लेकिन मलबे को हटाने के लिए अकेले कर्मचारियों की ताकत पर भरोसा करना ठीक नहीं है। इसलिए हमने लोगों से मदद की अपील भी की है।”

इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो ने रविवार को आपदा पीड़ित क्षेत्रों का भ्रमण किया। पालू शहर अभी मुसीबत में है इसलिए वहां इंडोनेशियाई सेना भी तैनात की गई है और बचाव दल के कार्यकर्ता बचे हुए लोगों को मलबे से निकाल रहे हैं। शहर में एक अपस्केल नाम के अकेले होटल से 150 लोगों को निकाला गया है। लगभग 17,000 लोगों ने शहर खाली कर दिया है और यह संख्या और बढ़ने की संभावना है।

ज्ञात हो कि बीते शुक्रवार को 7.5 तीव्रता के भूकंप की वजह से सुनामी ने शहर को अपनी चपेट में ले लिया। उसी समय सैकंडों लोग शहर के समुद्री तट पर एक फेस्टिवल की तैयारियों में लगे हुए थे।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+