कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

भाजपा सरकार ने आदिवासियों और किसानों की ज़मीन छीनकर उद्योगपतियों को दे दी, अब हम करेंगे उनकी ज़मीन की रक्षा : राहुल गांधी

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर अमीरों, उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के आरोप लगाए.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि आदिवासियों के लिए सबसे ज़रूरी जल, ज़मीन और जंगल है। 2013 में कांग्रेस पार्टी ने ज़मीन अधिग्रहण को लेकर एक बहुत ऐतिहासिक कानून लागू किया था. इससे पहले यूपीए सरकार ने दो कानून, पेसा कानून (पंचायतों के प्रावधान :अनुसूचित क्षेत्रों पर विस्तार: अधिनियम, 1996) और आदिवासी कानून, बनाए थे. तीनों कानूनों का एक ही लक्ष्य था चाहे किसान हो या आदिवासी उसकी ज़मीन की रक्षा होनी चाहिए और उसकी ज़मीन का फायदा उसी को मिलना चाहिए.

ज़िले के बरघाट में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने ये बातें कही. इस दौरान उन्होंने कहा कि ज़मीन अधिग्रहण कानून में प्रवाधान था कि यदि किसी व्यक्ति की ज़मीन ली जाएगी तो उससे पूछा जाएगा. सरकार यदि ज़मीन लेती है तो उसका चार गुना मूल्य उस व्यक्ति को देना ही पडेगा. कानून में यह भी प्रवाधान था कि 5 साल तक ली गई ज़मीन पर उद्योग नहीं शुरु होता है, तो उस गरीब किसान व आदिवासी को ज़मीन वापस लौटा दी जाएगी.

उन्होंने कहा कि “प्रधानमंत्री बनते ही नरेंद्र मोदी ने इन कानून पर आक्रमण किया और लोकसभा में इस कानून को बदलने की कोशिश की. कांग्रेस पार्टी के सांसदों ने इसका विरोध किया और कानून को बदलने नहीं दिया.” कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात और उत्तर प्रदेश में इस कानून का पालन न कराकर आदिवासियों और किसानों की ज़मीन छीनकर उद्योगपतियों को दे दी गई. मध्यप्रदेश में हमारी सरकार बनते ही आदिवासियों, किसानों को उनकी जमीनें वापस दिलाई जाएंगी. साथ ही उनकी ज़मीन की हम रक्षा करेंगे.

गांधी ने कहा कि “चुनाव के वक्त नरेंद्र मोदी ने कहा था कि मुझे प्रधानमंत्री नहीं चौकीदार बनाओ. लेकिन पीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी अनिल अंबानी के चौकीदार बन गए. नीरव मोदी 35 हजार करोड़, विजय माल्या 10 हजार करोड़ और ललित मोदी, मेहुल चौकसी हजारों करोड़ रुपए लेकर भाग गए लेकिन चौकीदार चुप रहा.”

राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर अमीरों, उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 15-20 अमीरों (उद्योगपतियों) की जेब में गरीबों का पैसा डाला जा रहा है. मध्यप्रदेश में शिक्षा को बर्बाद कर दिया गया है। उद्योगपतियों, अमीरों के हाथ में शिक्षा सौंप दी गई है. आज किसान और गरीब अपने बच्चों को उच्च शिक्षा नहीं दिलवा पा रहे हैं. इसी तरह स्वास्थ्य सेवाओं के भी हाल बेहाल हैं. एमआईआर, एक्सरे के लिए हजारों रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष ने नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि “उनके राज में दो हिंदुस्तान हो गए हैं. एक गरीबों के लिए और एक अमीरों के लिए हिंदुस्तान बन गया है. नोटबंदी के समय गरीब अपनी मेहनत और बचत की कमाई को बदलने के लिए बैंक की लाइन में खड़े रहा. वहीं नरेंद्र मोदी ने अमीरों के लिए बैंक के पीछे का द्वार खुलवा दिया.” कार्यक्रम की शुरुआत में राहुल गांधी ने आदिवासी ईष्ट देव बिरसा मुंडा को याद किया. इस अवसर पर मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने भी सभा को सम्बोधित किया.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+