कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

मोदी जी ने बड़े उद्योगपतियों को लाखों करोड़ रुपए दिए, हम अपने देश के ग़रीबों को हर महीने देंगे पैसे: राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा कि उनका लक्ष्य है कि देश के ग़रीब लोग भी आत्मसम्मान से जी सकें.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 2019 में सरकार बनने पर न्यूनतम आय गारंटी योजना का एलान किया है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस सरकार हर ग़रीब परिवार को महीने का 6000 रुपया देगी. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस योजना के लिए सरकार के पास पैसे की कमी नहीं है और अगर मोदी सरकार बड़े उद्योगपतियों का कर्ज़ माफ़ कर सकती है तो कांग्रेस पार्टी ग़रीबों को न्यूनतम आमदनी देना सुनिश्चित करेगी.

एक प्रेस वार्ता में कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “पिछले पांच सालों में हिन्दुस्तान की जनता खासकर गरीबों को काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था, इसलिए हमने निर्णय लिया है कि कांग्रेस पार्टी ग़रीबों को “न्याय” देगी. यह न्यूनतम आय योजना है. यह ऐतिहासिक स्कीम है, दुनिया में ऐसी स्कीम नहीं लाई गई है.कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लाइन 12 हजार महीने की होगी. कांग्रेस पार्टी गारंटी करती है कि 20 प्रतिशत सबसे ग़रीब परिवारों को हर साल 72,000 रुपए देने जा रही है. यह पैसा सीधे ग़रीबों के बैंक खाते में डाला जाएगा.

राहुल गांधी ने कहा कि अगर नरेन्द्र मोदी हिन्दुस्तान के सबसे अमीर लोगों को पैसा दे सकते हैं तो कांग्रेस पार्टी हिन्दुस्तान के ग़रीब लोगों को पैसा देगी.

राहुल गांधी ने कहा कि मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में वादा किया था कि दस दिन के भीतर कर्ज माफ़ किया जाएगा. वहां कर्ज़ माफ़ हो गया. इसी तरह 20 प्रतिशत ग़रीब परिवारों को साल का 72 हजार रुपया मिलेगा. राहुल गांधी ने कहा कि यह स्कीन फ़ेज तरीके से चलेगा. पायलट प्रोजेक्ट की तरह इसे लाया जाएगा.

उन्होंने कहा है कि हमने काफ़ी सोच समझ और विश्लेषण करने के बाद इस योजना का एलान किया है. इसे बिल्कुल लागू किया जा सकता है. इसके लिए पैसे की कमी नहीं है.

राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि साढ़े तीन रुपए किसानों को दिए, इस पर संसद में ताली बजी. मोदी जी ग़रीबों को साढ़े तीन रुपए देते हैं और हवाई-जहाज में उड़ने वाले अमीरों को लाखों करोड़ रुपए देते हैं. हम ग़रीबों के ख़ाते में पैसा डालेंगे. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस योजना से पांच करोड़ परिवार और पच्चीस करोड़ लोगों को फ़ायदा मिलेगा.

राहुल गांधी ने कहा कि न्यूनतम आमदनी की लाइन 12,000 रुपए होगी. न्यूनतम आमदनी की लाइन और ग़रीब परिवार की इनकम में जो फ़र्क होगा वह सरकार देगी. अगर किसी की इनकम 6000 रुपए है तो सरकार उन्हें 6000 रुपए देकर उनकी आमदनी कम से कम 12,000 रुपए करेगी.

राहुल गांधी ने कहा कि हर रोज आपसे चोरी की जा रही है, आपका पैसा लिया जा रहा है. हम अब आपको दिखाएंगे कि आपका इस देश में कितना है और क्या है. राहुल गांधी ने कहा कि दुनिया के बड़े अर्थशास्त्रियों से सलाह लेकर हमने योजना बनाई है. यह बिल्कुल संभव योजना है. हमने मनरेगा योजना को लागू किया था, अब न्याय योजना को लागू करेंगे. उन्होंने कहा कि एक बार हम पूरे देश के सभी लोगों को एक निश्चित न्यूनतम आमदनी देना सुनिश्चित करेंगे, उसके बाद देश की स्थिति में सुधार होगा.

राहुल गांधी ने कहा कि मनरेगा पहला फेज था,अब गरीबी के खिलाफ़ यह फाइनल लड़ाई है. एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि इस देश का एक झंडा है. और प्रधानमंत्री जी की पॉलिटिक्स से दो तरह का हिन्दुस्तान बन रहा है, एक अनिल अंबानी जैसा और दूसरा ग़रीब और किसानों का. हमने लाखों लोगों से बात करके अपना मेनिफेस्टो बनाया है. 21 वीं सदी में यह स्वीकार नहीं है कि इस देश में ग़रीबी रहे. अमीरों और ग़रीबों का दो अलग-अलग हिन्दुस्तान नहीं होगा. हम एक हिन्दुस्तान बनाएंगे जहां ग़रीबों की भी इज्जत होगी और अमीरों की भी इज्ज़त होगी.

सब्सिडी के एक सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि पन्द्रह उद्योगपतियों का लाखों करोड़ का कर्ज़ माफ़ किया जाता है, वह सब्सिडी नहीं होती. लेकिन, ग़रीबों को पैसे दिए जाते हैं तो सब्सिडी की बात होने लगती है.

एक सवाल में पूछा गया कि राहुल जी इस स्कीम को लाकर क्या आप महात्मा बनने जा रहे हैं? इसके जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि नहीं मैं महात्मा नहीं बनना चाहता हूं, मैं दो हिन्दुस्तान नहीं चाहता हूं. मैं ग़रीबों को इज्जत दिलवाना चाहता हूं. ग़रीबों के अंदर यह भावना डालना चाहता हूं कि इस देश में हमें भी इज्जत मिलती है और हमें भी अपना भविष्य दिखाई देता है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+