कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

राजस्थान विधानसभा चुनाव: हार से बचने के लिए अपने आधे से ज्यादा नाकाम विधायकों का टिकट काटेगी भाजपा

भारतीय जनता पार्टी को विश्वास है कि उनके विधायकों ने जनता के उम्मीदों के मुताबिक काम नहीं किया है।

राजस्थान चुनाव में भारतीय जनता पार्टी अपने मौजूदा विधायकों में से आधे माननीयों का टिकट काट सकती है। पार्टी को अंदेशा है कि उनके विधायकों ने जनता के उम्मीदों के मुताबिक काम नहीं किया है, जिसका ख़ामियाजा विधानसभा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है।

भाजपा में मौजूदा विधायकों की संख्या 160 है। लेकिन, खबरों के मुताबिक इनमें से 80-100 विधायकों के टिकट काटे जा सकते हैं। दरअसल, भाजपा द्वारा यह फैसला आगामी विधानसभा चुनावों से ठीक पहले लिया जा रहा है क्योंकि शायद पार्टी को इस बात का एहसास हो गया है कि पार्टी के विधायक जनता की उम्मीदों को पूरा नहीं कर सके हैं।

जनसत्ता के मुताबिक भाजपा द्वारा विधायकों को बदलने या मौजूदा विधायकों के टिकट काटने के पीछे यह तर्क दिया जा रहा है कि मतदाता भारतीय जनता पार्टी के विधायकों से नाराज हैं, क्योंकि बड़ी संख्या में विधायकों ने योजनाओं में गोलमाल की है और मतदाताओं की सेवा उम्मीदों के मुताबिक नहीं की है।

कहा जा रहा है कि पार्टी युवाओं को उम्मीदवार बनाकर चुनाव मैदान में उतारेगी। इसके लिए ऐसे उम्मीदवारों का चयन किया जा रहा है, जिन्होंने सालों से जनता की सेवा की है।

पार्टी का यह फैसला राजस्थान समेत अन्य राज्यों के विधायकों के लिए एक प्रकार का संदेश होगा कि जनता की उम्मीदों पर खरा न उतरने की स्थिति में उनका टिकट भी काटा जा सकता है।  लोकसभा सदस्यों को भी इस स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए पार्टी नमो ऐप और दूसरे पारंपरिक चैनलों के माध्यम से सर्वे कर जनता के मूड को भांप रही है।

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+