कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

सफाई कर्मचारियों के लिए बने अलग मंत्रालय: सफाई कर्मचारी आंदोलन ने आम चुनाव के लिए जारी किया मेनिफ़ेस्टो

मेनिफ़ेस्टो में कहा गया है कि मैनुअल सफाई कर्मियों के साथ प्रधानमंत्री ने ऐतिहासिक अन्याय किया है, इसलिए उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए.

सफ़ाई कर्मचारियों के हक में काम करने वाले संगठन सफाई कर्मचारी आंदोलन ने आम चुनाव के लिए अपना मेनिफ़ेस्टो जारी किया है. इसमें सफ़ाई कर्मियों से जुड़ी मांगों को रखा गया है.

इस मेनिफ़ेस्टो में संगठन ने देश के प्रधानमंत्री से माफ़ी मांगने की मांग उठाई है. मेनिफ़ेस्टो में कहा गया है कि मैनुअल सफाई कर्मियों के साथ प्रधानमंत्री ने ऐतिहासिक अन्याय किया है, इसलिए उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए.

सफ़ाई कर्मचारियों ने अपनी सुरक्षा को लेकर संसद का एक विशेष सत्र बुलाने की मांग रखी है. इस विशेष सत्र में मैनुअल सफाई, सफाई कर्मियों की स्थिति में सुधार और सीवर सफाई के दौरान होने वाली मौतों पर रोक लगाने के फ़ैसले लिए जाएंगे.

(साभार- ट्विटर, @BezwadaWilson)

सफाईकर्मियों की स्थिति में सुधार के लिए एक अलग मंत्रालय की मांग भी की गई है. यह मंत्रालय प्रधानमंत्री के अधीन होगा.

इस मेनिफ़ेस्टो में सफाईकर्मियों और उनके परिवारवालों के लिए जीने का अधिकार कार्ड बनाने की बात भी कही गई है. इस कार्ड का उद्देश्य सफाईकर्मियों के परिवार वालों को मुफ़्त शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, गरिमामयी नौकरी और संविधान में मिलने वाली अन्य सुविधाएं सुनिश्चित करेगा.

(साभार- ट्विटर, @BezwadaWilson)

इसके साथ ही मेनिफ़ेस्टो में यह भी मांग की गई है कि केन्द्रीय बजट का एक प्रतिशत हिस्सा सफाई कर्मियों के कल्याण के लिए आवंटित किए जाएं. इसके साथ ही सफाई के काम में कॉन्ट्रैक्ट प्रणाली को ख़त्म किया जाए क्योंकि इससे सफाई कर्मचारियों का बहुत शोषण होता है.

इसके साथ ही सीवर सफाई के दौरान मरने वाले सफाईकर्मियों  के परिवार वालों के लिए 1 करोड़ रुपए का मुआवज़ा देने की बात भी मेनिफ़ेस्टो में कही गई है.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+