कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

कर्नाटक: वर्तमान सांसद के ख़िलाफ़ ही खड़े हुए बीजेपी कार्यकर्ता, कहा- हम इनके नफ़रत से प्रेरित राजनीति के ख़िलाफ़ है

कर्नाटक के चिकमंगलुरु में भाजपा सांसद शोभा करंदलाजे को अपने ही पार्टी कार्यकर्ताओं से विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

कर्नाटक के चिकमंगलुरु में भाजपा सांसद को अपने ही पार्टी कार्यकर्ताओं से विरोध का सामना करना पड़ रहा है. भाजपा कार्यकर्ताओं ने वर्तमान सांसद शोभा करंदलाजे के ख़िलाफ़ ट्विटर पर अभियान छेड़ रखा है. उनका कहना है कि इस बार इस निर्वाचन क्षेत्र से पार्टी के द्वारा किसी और उम्मीदवार को खड़ा किया जाए. वर्तमान सांसद की राजनीति नफ़रत से प्रेरित है.

दरअसल, ट्वीटर और फ़ेसबुक पर #shobhaGoBack कैंपन की शुरूआत हो गयी है. इस हैशटेग का उपयोग कर भाजपा कार्यकर्ता उडुपी-चिक्कमंगलुरु निर्वाचन क्षेत्र में उम्मीदवार बदलने की मांग कर रहे हैं.

बीजेपी कार्यकर्ता गिरिश ने कहा कि, “ हम अपने क्षेत्र में विकास की कमी और विशेष कर ओबीसी और पिछड़े वर्गों के लिए नाख़ुश हैं. वर्तमान सांसद हम जैसे कार्यकर्ताओं के लिए पहुंच से बाहर हैं. क्योंकि वह राज्य राजनीति में विशेष रूप से सक्रिय होने के वज़ह से हमलोग पर ध्यान नहीं दे पातीं.”

वहीं, चिक्कमंगलुरु के असंतुष्ट बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि हम अभी भी पीएम मोदी के समर्थन में हैं. हम केवल पार्टी को आगामी चुनावों के लिए स्थानीय उम्मीदवार शोभा करंदलाजे को बदलने की मांग कर रहे हैं. वहीं एक और भाजपा कार्यकर्ता गिरीश उप्पार ने कहा कि, “ हम उनके नफ़रत से प्रेरित राजनीति के ख़िलाफ़ हैं और हम प्यार से संचालित राजनीति चाहते हैं. हम चाहते हैं कि नरेंद्र मोदी सत्ता में आएं लेकिन शोभा करंदलाजे यहां से उम्मीदवार नहीं होनी चाहिए.”

ज़िले के उत्तरी और पूर्वी हिस्सों में स्थित तारिकेरे, अज़ामपुरा और काडुर को बीजेपी कार्यकर्ताओं ने भी गीरिश के बयान से सहमत नज़र आए. शोभा बीते शुक्रवार को तारिकेरे रेलवे स्टेशन पर सुविधाओं में किए गए सुधार व विकासात्मक गतिविधियों की जश्न मनाने के लिए एक समारोह में तारिकेरे में उपस्थित थी. हालांकि, पिछले 5 सालों से तारिकेरे को अनदेखा करने के लिए वहां के पार्टी कार्यकर्ता शोभा से नाखुश थे.

तारिकेरे के बीजेपी कार्यकर्ता लोहित ने कहा कि, “पिछले 5 सालों में शोभा को एकबार भी यहां नहीं देखा गया. हम एक स्थानीय उम्मीदवार को यहां से उम्मीदवार बनाना चाहते हैं. क्योंकि शोभा का राज्य की राजनीति में ज़्यादा शामिल होने के कारण उनका ज़मीनी स्तर के कार्यकर्ताओं से कोई संबंध नहीं है.”

शोभा करंदलाजे से असंतुष्ठ पार्टी कार्यकर्ताओं ने कहा कि वह शोभा की जगह जयप्रकाश हेगड़े को उडूपी- चिक्कमंगलुरु निर्वाचन क्षेत्र के उम्मीदवार के रूप में चाहते हैं.

द न्यूज़ मिनट से बातचीत के दौरान हेगड़े ने कहा कि, “मैं इसपर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता और ना ही मै पार्टी से टिकट की कोई उम्मीद है. यदि पार्टी मुझे चुनती है तो मैं ज़रूर चुनाव लडूंगा.” बता दें कि जयप्रकाश हेगड़े राज्य के पूर्व मंत्री रह चुके हैं. 2017 में हेगड़े ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हो गये और उडूपी- चिक्कमंगलुरु से भाजपा के उम्मीदवार के तौर पर उनको देखा जा रहा है. इससे पहले हेगड़े को 2009 के लोकसभा चुनाव में निर्वाचन क्षेत्र से चुने गये थे जब उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा था.

शोभा करंदलाजे कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ ज़िले के पुत्तूर में रहती हैं. 2014 में उन्होंने निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा और जीता. हालांकि, विरोध के बावजूद भी शोभा के करीबी सूत्रों ने कहा कि वह उडूपी-चिक्कमंगलुरु से चुनाव लड़ेंगी. शोभा बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बीएस यदुरप्पा की करीबी सहयोगी हैं.

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+