कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

क्या राष्ट्र को संबोधित करने से पहले मोदी जी ने मांगी थी चुनाव आयोग की अनुमति? : सीताराम येचुरी

सीताराम येचुरी ने लिखा है, "यह घोषणा चुनावी रैलियों के ठीक मध्य में की गई है. प्रधानमंत्री मोदी खुद भी चुनाव लड़ रहे हैं, ऐसे में यह आचार संहिता का सीधे तौर पर उल्लंघन है."

प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को अंतरिक्ष में भारत की सफलता को लेकर राष्ट्र को संबोधित किया. इस पर सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है. उन्होंने पूछा है कि चुनावों के वक्त इस तरह के कार्यक्रम की अनुमति कैसे दी गई.

चुनाव आयोग को लिखे पत्र में सीताराम येचुरी ने एंटी सेटेलाइट हथियार ए-सैट का निर्माण करने के लिए देश के वैज्ञानिकों को बधाई दी है. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि 2012 में ही डीआरडीओ के प्रमुख ने घोषणा की थी कि भारत ने इस प्रकार की क्षमता विकसित कर ली है.

येचुरी ने लिखा है, “इस तरह के मिशन को देश के सामने रखने के लिए डीआरडीओ के वैज्ञानिकों को आगे करना चाहिए, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने खुद ही इसका एलान कर दिया है.”

इसके आगे सीताराम येचुरी ने लिखा है, “यह घोषणा चुनावी रैलियों के ठीक मध्य में की गई है. प्रधानमंत्री मोदी खुद भी चुनाव लड़ रहे हैं, ऐसे में यह आचार संहिता का सीधे तौर पर उल्लंघन है.”

सीताराम येचुरी ने पूछा है कि क्या चुनाव आयोग को प्रधानमंत्री के इस संबोधन के बारे में जानकारी दी गई थी? इसके साथ ही उन्होंने पूछा है कि क्या चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री मोदी को इस संबोधन के लिए अनुमति दी थी?

सीताराम येचुरी ने अपने पत्र में लिखा है कि पूरा देश जानना चाहता है कि वैज्ञानिकों की इस उपलब्धि को राजनीतिक फ़ायदा उठाने की अनुमति किसने दी थी?

पीटीआई इनपुट्स पर आधारित

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+