कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

बेरोज़गारी और विश्वविद्यालयों पर बढ़ते हमलों के विरोध में दिल्ली पहुंच रहे देश भर के छात्र, 7 फरवरी को दिल्ली में प्रदर्शन

लाल किले से संसद मार्ग तक निकलने वाली इस पैदल यात्रा को युवा नेता जिग्नेश मेवानी ने समर्थन दिया है.

मोदी सरकार के नकारात्मक रवैये से नाराज़ देश भर के युवा और अलग-अलग जगहों के छात्र, ‘यंग इंडिया’ के बैनर तले दिल्ली में 7 फ़रवरी को सुबह 10 बजे से लाल किले से संसद मार्ग तक पैदल यात्रा निकालेंगे.

 आवर डेमोक्रेसी के मुताबिक विश्वविद्यालयों पर बढ़ते हमले, बेरोज़गारी, फन्ड में कटौती, सीटों में कटौती से देश के युवाओं का भविष्य खतरे में है. इन मुद्दों पर सरकार को घेरने के लिए देश भर के युवा, ‘यंग इंडिया अधिकार मार्च’ नाम के आयोजन तले सड़क पर उतर रहे हैं.

छात्र एकता मंच के सहयोग से एफटीआईआई, आईआईटी मद्रास, पंजाब यूनिवर्सिटी, जेएनयू, बीएचयू, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, दिल्ली यूनिवर्सिटी और कई नामी विश्वविद्यालयों के छात्रों समेत एसएससी और रेलवे के आंदोलनरत युवाओं के प्रतिनिधि भी इसमें हिस्सा ले रहे हैं.

सभी खाली पड़ी सरकारी नौकरियों को जल्द-से-जल्द भरना, पेपर लीक होने से रोकना, भर्ती में हो रहे भ्रष्टाचार पर लगाम कसना, बजट का 10 फ़ीसदी हिस्सा शिक्षा पर लगाना, ठीक तरीके से आरक्षण लागू करना, फीस में बढ़ोतरी-शिक्षा में बढ़ रहे भगवाकरण को खत्म करना समेत कैंपस के अंदर हो रही तानाशाही को बंद करना इनकी प्रमुख मांगों में हैं.

 

इस मार्च के समर्थन में आये जिग्नेश मेवानी ने भी ट्वीट के ज़रिये सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि सालाना 2 करोड़ रोज़गार भूल जाएं, पहले खाली पड़े 24 लाख सरकारी पदों को ही भर दीजिये. मार्च को सफ़ल बनाने के लिए उन्होंने युवाओं की आर्थिक मदद करने के लिए भी सभी से अपील की है.

 

 

You can also read NewsCentral24x7 in English.Click here
+